कांसेप्ट फोटो

चंदौली जिले में अब अनुदेशक और शिक्षामित्र भी प्रेरणा एप के जरिए स्कूलों में अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करेंगे। बेसिक शिक्षा अधिकारी ने प्राथमिक और जूनियर हाईस्कूलों में कार्यरत अनुदेशकों और शिक्षामित्रों का डाटा प्रेरणा तकनीक फ्रेमवर्क पर कराए जाने संबंधी निर्देश जारी कर दिया है।

इसके साथ ही साथ ही दैनिक अनुश्रण प्रणाली पर पर इनका विवरण और नंबर भी फीड कर दिया गया है। पूर्व में केवल शिक्षकों को ही इस व्यवस्था से जोड़ा गया था। पठन-पाठन में सुधार को बेसिक शिक्षा परिषद स्तर से यह निर्णय लिया गया है।

सरकारी स्कूलों की शिक्षा व्यवस्था में सुधार लाने, एमडीएम की सटीक निगरानी और शिक्षकों की शत प्रतिशत उपस्थिति सुनिश्चित करने को शासन स्तर से चार सितंबर से प्रेरणा तकनीक फ्रेमवर्क शुरू किया गया। इसपर विद्यालय और शिक्षक से संबंधित विवरण उपलब्ध कराए जाने की व्यवस्था की गई। प्रथम चरण में शिक्षकों को ही इससे जोड़ा गया था। लेकिन अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा उत्तर प्रदेश ने नया निर्देश जारी करते हुए परिषद द्वारा संचालित प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत शिक्षामित्र और अनुदेशक का डाटा भी प्रेरणा तकनीक फ्रेमवर्क पर उपलब्ध कराए जाने की बात कही है। जिनका डाटा आइजीआरएस पर अंकित नहीं है उनका मोबाइल नंबर सहित पूरा विवरण फीड करने का निर्देश है। इस तरह 564 अनुदेशक और 1227 शिक्षामित्र निगरानी की नई व्यवस्था से जुड़ जाएंगे।

 बीएसए भोलेंद्र प्रताप सिंह बोले

अनुदेशकों और शिक्षामित्रों का डाटा प्रेरणा तकनीक फ्रेमवर्क पर कराए जाने संबंधी निर्देश जारी कर दिया गया है। इसका कड़ाई से अनुपालन कराया जाएगा। कुछ शिक्षक विरोध कर रहे हैं लेकिन अधिकांश एप को डाउनलोड कर चुके हैं।