बासमती कोल का हत्यारा अरेस्ट, ऐसे हुई थी विवाद के बाद हत्या

बासमती कोल का हत्यारा अरेस्ट, ऐसे हुई थी विवाद के बाद हत्या

नौगढ़। चंदौली जिले के नौगढ़ थाना क्षेत्र में हुई नक्सली एरिया कमांडर बासमती कोल की हत्या के आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि पैसे के लिए अपने साथ रहने वाली बासमती कोल की हत्या उसी के एक साथी ने की है।

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया तो उस ने सारी दास्तान पुलिस के सामने बयां कर दी और अपना जुर्म कबूल कर लिया।

जानकारी के अनुसार सरकारी अस्पताल चकिया से प्रभारी निरीक्षक नौगढ़ को फोन करके बताया गया कि आपके थाना क्षेत्र की एक महिला को मृत अवस्था मे अस्पताल में लाया गया लाने वाले व्यक्ति को जब यह सूचना दी गयी कि उसके द्वारा लायी गयी घायल महिला मृत है तो वह वहाँ से तुरन्त भाग गया।

उक्त सूचना मिलने पर प्रभारी निरीक्षक नौगढ़ तत्काल मय हमराह चकिया सरकारी अस्पताल पहुचे और शव को कब्जे मे लेकर शव को बाद विधिक कार्यवाही पोस्टमॉर्टम हेतु जिला चिकित्सालय चन्दौली भिजवाये तभी कुछ समय बाद थाना नौगढ़ पर मृतका की बहन ने अपने ही गांव के काशीनाथ कोल पर अपनी बहन की हत्या करने का आरोप लगाते हुए नामजद तहरीर दी।

जिसपर अस्पताल लाने वाले व्यक्ति का हुलिया जानने  पर पता चला कि अस्पताल लाने वाला व्यक्ति काशीनाथ ही था जिसके उपरान्त पुलिस टीम सहित मुखबिरों को उस व्यक्ति की खोज में लगा दिया गया।

मुखबिर की सूचना पर काशीनाथ कोल को मुरारपुर मोड़ चकिया से गिरफ्तार कर थाने पर लाया गया जहाँ उसने मृतका के साथ पिछले कई वर्षों से अपने गांव मझगांव के बाहर लहसनिया बीट जंगल में एक मडई मे साथ-साथ रहने की बात बतायी तथा उसने बताया कि कल शाम को हम दोनों साथ-साथ शराब पिये और खाना खाने के दौरान ही मैं अपनी बेटी की शादी तय होने  की बात बताते हुए बासमती(मृतका) से शादी में होने वाले खर्च हेतु पैसे की मांग किया।

पैसे की मांग करते ही बासमती जोर जोर से चिल्लाकर गाली देने लगी और एक रूपये भी ना देने की बात कहने लगी। इसी बीच हम दोनों में हाथापाई शुरु हो गई जिसपर मैने पास में रखे डण्डे से वार कर दिया और बाल पकड़ कर दिवाल में लड़ा दिया।

नशे में होने के कारण आरोपी भी वहीं लेट गया और सो गया सुबह आंख खुलने पर जब उसे लहुलुहान देखा तो तुरन्त फोन कर एम्बुलेंस को बुलाया और नौगढ़ सरकारी अस्पताल ले गया जहां से डाक्टर ने चकिया के लिए रेफर कर दिया और चकिया पहुचने पर डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया गया। यह सुनते ही वह अस्पताल से भाग गया और फिर थोड़ी देर बाद ही पुलिस ने उसे पकड़ लिया।

Comments

comments