जिला चिकित्सालय की घोर लापरवाही के कारण रविवार को मरीज की मौत होने के बाद जब परिजनों का धैर्य का बांध टूटता गया तब उन्होंने हंगामा करना शुरू कर दिया और हंगामा करते हुए जब वह मंत्री व जिले के सांसद के स्वागत समारोह के कार्यक्रम में जा पहुंचे।


वहां चंदौली के सांसद व कैबिनेट मंत्री के स्वागत में विधायकों के साथ साथ तमाम भाजपा के नेता व पदाधिकारी मौजूद थे पर वे उनकी समस्या सुनकर उन्हें उसकी हिम्मत बढ़ाने के बजाय उन्हें कार्यक्रम स्थल से बाहर खदेड़ने में जुटे रहे।

कार्यकर्ता व पदाधिकारी ही नहीं पुलिस प्रशासन भी उन्हें बाहर खदेड़ने का काम किया, जबकि लोग मदद करने के लिए गिड़गिड़ा रहे थे।

जब इसकी सूचना मुख्य चिकित्सा अधिकारी को लगी कि मंत्री के कार्यक्रम में मरीज के परिजन पहुंच गए हैं तो वह आनन-फानन में जिला अस्पताल पर पहुंचकर बिजली की व्यवस्था सुचारु रुप से कराने की बात कहने लगे।

इस संबंध में अधिकारी ने बताया कि विभाग बिजली विभाग द्वारा बिजली की व्यवस्था सही की जा रही थी, लेकिन उनके द्वारा कमी किए जाने के कारण मरीज की मौत हुई है, जिसकी जांच कर जिला अधिकारी के संज्ञान में देकर कार्यवाही की जाएगी।