ईंट भट्ठा कारोबारी ने मजदूरों के हड़पे पांच लाख, कोतवाल बोले-पूना जाकर दिलाएंगे पैसा

ईंट भट्ठा कारोबारी ने मजदूरों के हड़पे पांच लाख, कोतवाल बोले-पूना जाकर दिलाएंगे पैसा

चकिया । चंदौली जिले के चकिया में श्रमिकों को मोटी दिहाड़ी दिलाने का सब्जबाग दिखाकर ईंट भट्ठा कारोबारी ने लाखों रुपये हड़प लिये। पैसे की लालच में मजदूर अपना घर-बार छोड़ कमाई करने पूना पहुंच गए थे। ठगी का एहसास होने पर किसी तरह भागकर घर पहुंचे। ठेकेदार से अपने रुपये मांगे तो उसने हाथ खड़े कर दिए। परेशान मजदूरों ने कोतवाली में मदद की गुहार लगाई तो मजदूरी मिलने की आस जग सकी है।

कोतवाली क्षेत्र के ईशापुर गांव के लालता ने 18 मजदूरों को 400 रुपये मजदूरी दिलाने के बहाने से बाहर जाने को राजी कर लिया। उसकी पूना के एक ईंट कारोबारी से सेटिंग हुई तो सभी श्रमिकों को एक साथ रवाना कर दिया। जानकारी के मुताबिक कौड़िहार गांव का जितेन्द्र, मनोज, अरविंद, ओम प्रकाश, श्याम बिहारी, सोनू, विफरन, लालता समेत 18 श्रमिक महाराष्ट प्रांत के पूना में जा पहुंचे। मजदूर चार अप्रैल को पूना (महाराष्ट्र) को रवाना हुए तो उनके मन में काम करने की ललक थी। वहां ईंट भठ्ठे पर श्रमिक मजदूरी करने लगे।

श्रमिकों ने आरोप लगाया कि प्रतिदिन 400 रुपये मजदूरी देने की बात मुकर्रर हुई थी। भुगतान प्रत्येक सप्ताह करने पर सहमति बनी थी। लेकिन तीन सप्ताह तक मजदूरी करने के बावजूद मेहनताना नहीं दिया गया। मजदूरों को महज खर्चा खोराकी मिल पा रहा था। बकाया मजदूरी मांगने पर ईंट भठ्ठा स्वामी ने डराना धमकाना शुरू कर दिया। मुश्किल में पड़े मजदूर किसी प्रकार किराया, भाड़ा का बंदोबस्त कर गत रविवार को गांव पहुंचे। ईशापुर निवासी लालता से 5.70 लाख रुपये की मजदूरी मांगी। जिसे देने से लालता ने हाथ खड़े कर दिए।

जिसके बाद मजदूर अपने नेता शंभू नाथ यादव के नेतृत्व में कोतवाल से मिले। इंस्पेक्टर ने बताया कि गरीबों की मजदूरों हर हाल में दिलाई जायेगी। पुलिस टीम को पूना भेजना भी पड़ा तो चूकेंगे नहीं।

Comments

comments