दुर्घटना में घायल दो बच्चियों के परिवार के लिए भगवान बने CO त्रिपुरारी पांडे

दुर्घटना में घायल दो बच्चियों के परिवार के लिए भगवान बने CO त्रिपुरारी पांडे

कहा जाता है कि भगवान की पूजा करने से मनचाही मुरादें मिलती है, लेकिन भगवान को किसी ने देखा नहीं है लेकिन नरैना गांव के राजेन्द्र कुमार और जयराम की माने तो उनके लिए प्रत्यक्ष रुप से भगवान के रूप में सकलडीहा के क्षेत्राधिकारी त्रिपुरारी पांडे हैं।

2 सितंबर जन्माष्टमी के दिन शौच करने गई संजना कुमारी 5 वर्ष पुत्री राजेंद्र कुमार तथा अंतिमा कुमारी पुत्री जयराम 6 वर्ष दोनों बच्चियों की मोटरसाइकिल दुर्घटना में सर में चोट लगने से गंभीर रूप से घायल हो गई थी, जिनको सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सकलडीहा भर्ती कराया गया था, जहां डॉक्टरों हालत गंभीर देख कर बीएचयू ट्रॉमा सेंटर के लिए रेफर कर दिया था ।

BHU के डॉक्टरों ने पैसा के अभाव में दोनों गंभीर बच्चियों को बाहर कर दिया और भर्ती लेने से मना कर दिया था, लेकिन साथ में क्षेत्राधिकारी सकलडीहा ने एक सिपाही को भेजा था, जिसने दूरभाष के माध्यम से सीओ साहब ने बताया कि घायल बच्चियों के परिजनों के पास पैसा नहीं है और डॉक्टर उपचार करने से मना कर रहे हैं । ऐसी हालत में तुरंत सीओ साहब ने ATM से पैसा निकाल कर उनका इलाज कराने का निर्देश दिया ।

इन दोनों  बच्चियों के इलाज में क्षेत्राधिकारी सकलडीहा ने लगभग डेढ़ लाख रुपये बिना स्वार्थ के खर्च कर दिए हैं। वहीं अब दोनों बच्चियां लगभग स्वस्थ्य हो गई हैं ट्रामा सेंटर में भर्ती बच्चियों को देखने के लिए क्षेत्राधिकारी सकलडीहा और उनकी पत्नी दोनों लोग अक्सर बीएचयू जाते थे।

एक ओर जहाँ पुलिस विभाग पैसा लेने के मामले में पहले से ही बदनाम है वहीं इस पुलिस अधिकारी की कार्यशैली की प्रशंसा चहु ओर हो रही है । इस संबंध में क्षेत्रधिकारी त्रिपुरारी पांडेय ने बताया कि ऐसे कार्यों की प्रेरणा हमें अपने उच्चाधिकारियों पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह जैसे कर्मनिष्ठ और ईमानदार लोगो से मिलती है।

क्षेत्रधिकारी त्रिपुरारी पांडेय ने बताया कि हमारे पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह का निर्देश है कि पीड़ित असहाय और निर्धन लोगों की तत्काल मदद की जाय। इसी प्रेरणा से मैं कार्य करता रहता हूं ।

Comments

comments