चंदौली जिले के चकिया इलाके के कुशहीं गांव के सिवान में सात फीट लंबा मगरमच्छ देखे जाने से दहशत फैल गई। ग्रामीणों ने पुलिस व वन विभाग को जानकारी दी। जाल लगाकर वन टीम ने मगरमच्छ को पकड़ा तो ग्रामीणों ने राहत की सांस ली। शनिवार को अभ्यारण क्षेत्र चंद्रप्रभा बांध में मगरमच्छ को छोड़ा गया।

कुशहीं गांव के सिवान में ग्राम प्रधान रणजीत सिंह यादव के खेत में बाजरे की फसल है। समीप छोटू पासवान खेत की रखवाली के लिए अड़ार बनाकर रहते हैं। रात में शौच के लिए बाजरा की खेत की ओर गए तो खटर पटर की आवाज सुन सकते में आ गए। टॉर्च जलाई तो सामने मगरमच्छ देख घबरा गए। भागे-भागे गांव में पहुंचे और लोगों को खेत में मगरमच्छ होने की जानकारी दी। लाठी- डंडे के साथ बड़ी संख्या में ग्रामीण मौके पर पहुंच गए। पर रात होने के कारण किसी की हिम्मत नजदीक जाने की नहीं हुई।

ग्राम प्रधान ने पुलिस व वन विभाग के अधिकारियों को खेत में मगरमच्छ होने की जानकारी दी। कोतवाल संतोष राय, समीपवर्ती शिकारगंज चौकी प्रभारी वीरेंद्र सिंह, चंद्रप्रभा रेंजर बृजेंद्र पांडेय मय फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए। मजबूत जाल लेकर पहुंची वन विभाग की टीम ने अथक प्रयास के बाद मगरमच्छ को जाल में कैद किया।

मगरमच्छ को शिकारगंज वन विभाग की चौकी पर लाया गया। आवश्यक कार्रवाई कर दोपहर बाद मगरमच्छ को अभ्यारण क्षेत्र चंद्रप्रभा बांध में सकुशल छोड़ दिया गया। टीम में वन दारोगा आनंद दुबे, वनरक्षक जयप्रकाश, राजेंद्र सोनकर आदि कर्मी शामिल थे।