इस साल का आखिरी ग्रहण 26 दिसंबर 2019 को लगने जा रहा है। यह साल का तीसरा सूर्य ग्रहण होगा। इसकी खास बात यह है कि इस बार सूतक काल 12 घंटे पहले 25 दिसंबर को शाम 5 बजकर 32 मिनट में लगेगा और ग्रहण खत्म होने पर समाप्त होगा।

इसके साथ साथ जानने वाली बात यह है कि 26 दिसंबर को सुबह 8:17 बजे से सूर्य ग्रहण शुरू होगा और सुबह 9:24 बजे से चंद्रमा सूर्य के किनारे को ढकना शुरू कर देगा और इसके बाद सुबह 9:26 बजे तक पूर्ण सूर्य ग्रहण दिखाई देगा। वहीं सुबह 11:05 बजे तक ग्रहण समाप्त हो जाएगा, यानि आखिरी सूर्य ग्रहण कम से कम 2 घंटे 40 मिनट तक चलेगा।  यह सूर्य ग्रहण भारत समेत सऊदी अरब, कतर, सुमात्रा, मलेशिया, ओमान, सिंगापुर, नॉर्थन मरिना आईलैंड, श्रीलंका और बोर्नियो में दिखाई देगा।

 

सूर्य ग्रहण की यह है धार्मिक मान्यता व कथा

मत्स्यपुराण की कथानुसार, जब समुद्र मंथन से अमृत निकला था तो राहु नाम के दैत्य ने देवताओं से छिपकर उसका पान कर लिया था। इस घटना को सूर्य और चंद्रमा ने देख लिया था और उसके इस अपराध को उन्होंने भगवान विष्णु को बता दिया था। इस पर श्रीविष्णु को क्रोध आ गया था और उन्होंने राहु के इस अन्यायपूर्ण कृत से उसे मृत्युदंड देने हेतु सुदर्शन चक्र से राहु पर वार कर दिया था और परिणाम स्वरूप राहु का सिर और धड़ अलग हो गया लेकिन अमृतपान की वजह से उसकी मृत्यु नहीं हुई। वहीं राहु ने सूर्य और चंद्रमा से प्रतिशोध लेने के लिए दोनों पर ग्रहण लगा दिया, जिसे आज हम सब सूर्यग्रहण और चंद्रग्रहण के नाम से जानते हैं।

 

सूर्य ग्रहण समय (Surya Grahan Date And Timing)

जैसा कि लेख में जानकारी दी गई है कि पहला व दूसरा सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। इसलिये ग्रहण का समय यहां नहीं दिया जा रहा। ग्रहण का सूतक काल वैसे तो ग्रहण से 12 घंटे पहले शुरु हो जाता है लेकिन 2019 के ये आंशिक सूर्य ग्रहण भारतीयों को प्रभावित नहीं करेगें। तीसरे सूर्य ग्रहण का समय कुछ इस प्रकार रहेगा-

ग्रहण प्रारम्भ काल – प्रातः 08:17 (26 दिसंबर 2019)

परमग्रास – प्रातः 09:31 तक (26 दिसंबर 2019)

ग्रहण समाप्ति काल –प्रातः 10:57 तक (26 दिसंबर 2019)

खण्डग्रास की अवधि 02 घण्टे 40 मिनट्स 22 सेकण्ड्स

सूतक आरंभ – 17:32 बजे से (25 दिसंबर 2019)

सूतक समाप्त – 10:56 बजे (26 दिसंबर 2019)