चंदौली जनपद के स्वास्थ्य महकमे की उस समय पोल खुल गई जब जिला अधिकारी नवनीत सिंह चहल द्वारा 42 स्वास्थ्य केंद्रों पर 27 अधिकारियों को लगाकर और औचक निरीक्षण कराया। कहीं चौकीदार व वार्ड बॉय मिलकर इंजेक्शन लगा रहे थे तो कहीं डॉक्टर नदारद और कहीं मरीजों को भर्ती करने के नाम पर धन उगाही का भी कार्य धड़ल्ले से चल रहा था।

बताते चलें कि लगातार जिला अधिकारी को मिल रही स्वास्थ्य से संबंधित शिकायतों का अंबार होने के बाद जिला अधिकारी नवनीत सिंह चहल ने स्वास्थ्य महकमे को पटरी पर लाने के लिए निरंतर प्रयास करते रहे हैं, जिसके क्रम में आज जनपद के 42 स्वास्थ्य केंद्रों पर जिले के 27 अधिकारियों को जगह-जगह लगाकर स्वास्थ्य केंद्रों का निरीक्षण कराया गया।

निरीक्षण के दौरान संयुक्त चिकित्सालय चकिया में चौकीदार व वार्ड बॉय के माध्यम से मरीजों का इलाज कर इंजेक्शन लगाने का कार्य किया जा रहा था। वहीं नए मरीजों को अस्पताल में भर्ती करने के नाम पर ₹50 की धन उगाही भी की जा रही थी, जिसको संज्ञान में लेते हुए मुख्य विकास अधिकारी ने कार्यवाही करने की चेतावनी भी दी।

वहीं सदर एसडीएम द्वारा जब प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बरहनी पहुंचे तो वहां अस्पताल का ताला बंद पाया गया और डॉक्टर नदारद मिले। सभी अस्पतालों की कहीं ना कहीं कमियां मिलती रही, जिसकी रिपोर्ट तैयार कर जिला अधिकारी द्वारा संबंधित गैरहाजिर और लापरवाह डॉक्टर व कर्मचारियों के खिलाफ रिपोर्ट के अनुसार कार्यवाही की जाएगी।

इस संबंध में जिला अधिकारी नवनीत सिंह चहल ने बताया कि स्वास्थ्य महकमे को पटरी पर लाने के लिए यह औचक निरीक्षण कराया गया जिसमें कई खामियां पाई गई हैं और लापरवाह व गैर जिम्मेदार डॉक्टर व कर्मचारियों के खिलाफ रिपोर्ट के आधार पर कार्यवाही कठोर कार्यवाही की जाएगी।