चंदौली जिले के जिलाधिकारी ने समीक्षा बैठक करके कई विभागों की नकेल कसी है और कहा है कि लंबित विकास कार्यों व परियोजनाओं को शीघ्र पूरा करने की जरूरत है। सरकारी अस्पतालों में बाहर से दवा लिखने की शिकायत पर चिकित्सकों के खिलाफ कार्रवाई करने का भी आदेश जारी कर दिया है।

जिले के जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल ने गुरुवार को कलेक्ट्रेट सभागार में अधिकारियों संग बैठक के दौरान गांवों में खराब हैंडपंपों की मरम्मत कराने का निर्देश दिया। साथ ही लंबित विकास कार्यों व परियोजनाओं को शीघ्र पूरा करने पर बल दिया।

डीएम ने कलेक्ट्रेट सभागार में तीन घंटे तक मैराथन बैठक में विकास कार्यों के 71 बिदु व नीति आयोग के कार्यक्रमों की समीक्षा की। अधिशासी अभियंता जल निगम को गांवों में खराब हैंडपंपों की मरम्मत कराने का निर्देश दिया है। कहा, डीपीआरओ व सेक्रेटरी से समन्वय स्थापित कर खराब हैंडपंपों का रिबोर व मरम्मत कराएं। ताकि गर्मी के दिन में गांवों में पेयजल की किल्लत का सामना न करना पड़े। सरकारी अस्पतालों में मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिलनी चाहिए।

चिकित्सकों की ओर से बाहर से दवा लिखने की शिकायत पाए जाने पर वेतन रोकने के साथ ही विभागीय कार्रवाई तय है। उन्होंने जनपद में सड़कों को जल्द से जल्द गड्ढामुक्त करने का निर्देश दिया। कहा निर्माण कार्य में मानक का ध्यान रखा जाना चाहिए। अनियमितता पर ठेकेदार व कार्यदाई संस्था को ब्लैक लिस्टेड कर दिया जाएगा।

अभियान चलाकर परिषदीय स्कूलों में अधिक से अधिक छात्रों का नामांकन कराने पर जोर दिया। बोले, बच्चों को किताब, ड्रेस के साथ ही नियमित एमडीएम दिया जाना चाहिए। निर्माणाधीन शौचालयों के प्रगति के बाबत भी जानकारी ली। कहा, शौचालय निर्माण में यदि ग्राम प्रधान की ओर से टालमटोल किया जाता है तो उच्चाधिकारियों को अवगत कराएं। संबंधित प्रधानों के वित्तीय अधिकार सीज कर दिए जाएंगे।

इस बैठक में सीडीओ डा. एके श्रीवास्तव, सीएमओ डा. आरके मिश्रा, एक्सईएन पीडब्लूडी मिथिलेश कुमार, डीसी एनआरएलएम एमपी चौबे, डीआइओएस डा. विनोद राय, बीएसए भोलेंद्र प्रताप सिंह समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे।