जिले में करिए फौवारे वाली तकनीकि से सिंचाई, ऐसे लीजिए सरकारी योजना का लाभ

जिले में करिए फौवारे वाली तकनीकि से सिंचाई, ऐसे लीजिए सरकारी योजना का लाभ

चंदौली । जिला मुख्यालय पर मुख्य विकास अधिकारी कार्यालय में गुरुवार को उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग की ओर से प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में पर ड्राप मोर क्राप (माइक्रोइरिगेशन) वर्ष 2018-19 के तहत जिलास्तरीय समिति की बैठक हुई। इसमें योजना के क्रियान्वयन व सफल संचालन पर विस्तार से चर्चा की गई। साथ ही जिले में ड्रिप सिंचाई की व्यवस्था को बढ़ाने के तौर तरीके पर भी चर्चा हुई।

बताया जा रहा है कि चालू वर्ष में 94.0 हेक्टेअर में ड्रिप (टपक सिंचाई) व 435.0 हे. में (फौव्वारा सिंचाई) के लक्ष्य के क्रियान्वयन को समिति की ओर से अनुमति/अनुमोदन प्रदान किया गया।

सीडीओ डा. एके श्रीवास्तव ने निर्देश दिया कि अधिकारी व कर्मचारी योजना में पारदर्शिता बरतेंगे ताकि किसानों को इसका लाभ मिल सके। कहा किसानों को प्रथम आवक, प्रथम पावक के सिद्धांत पर लाभाविंत किया जाएगा। इसमें किसानों को आनलाइन डीबीटी के माध्यम से लाभ प्रदान किया जाएगा। योजना का लाभ प्राप्त करने को किसानों को उद्यान विभाग में अपना पंजीकरण कराना होगा।

इसके साथ साथ बताया कि लगातार गिर रहे भूजल स्तर को ड्रिप सिंचाई के माध्यम से बचाया जा सकता है। इससे फसल की सिंचाई तो होगी ही खेतों में नमी भी बनी रहेगी। समिति की ओर से विकास खंड स्तर पर योजना के व्यापक प्रचार-प्रसार पर बल दिया गया। साथ ही स्वयंसेवी संस्थाओं के माध्यम से भी जागरूक करने की सलाह दी गई।

उद्यान अधिकारी एसपी वर्मा ने कहा कि योजना में सामान्य कृषकों को 80 फीसद व लघु व सीमांत, अनुसूचित जाति के कृषकों को 90 प्रतिशत अनुदान प्रदान किया जाएगा।

बैठक में जिला विकास अधिकारी पद्मकांत शुक्ल, कृषि उपनिदेशक विजय सिंह, जिला कृषि अधिकारी राजीव भारती, सुरेश मिश्रा, प्राविधिक सहायक सदानंद पाण्डेय सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

Comments

purchase atarax comments