चंदौली जिले के धानापुर कस्बा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पिछले दिनों जच्चा बच्चा की मौत को लेकर सड़क जाम कर प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। इसमें पांच नामजद व 70 अज्ञात लोगों के विरुद्ध पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। इसे लेकर प्रदर्शनकारियों एवं उनके परिजनों में खलबली मची है। गिरफ्तारी को लेकर पुलिस सक्रिय हो गई है।

22 अगस्त को धरांव गांव निवासी महंगू चौहान की पुत्री सुजीता एवं उसके नवजात की प्रसव के दौरान मौत हो गई। इसके बाद नाराज परिजनों ने अस्पताल के चिकित्सकों एवं कर्मचारियों के ऊपर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया। दोपहर 1 बजे से 4 बजे तक जच्चा बच्चा के शव को अस्पताल के सामने सड़क पर रखकर चक्काजाम कर दिया और उग्र प्रदर्शन करने लगे। पुलिस ने जब समझाने का प्रयास किया तो आंदोलनरत पुलिस से भी उलझ गए। इस दौरान शरारती तत्वों ने अस्पताल की कुर्सी मेज और बेंच आदि उठाकर सड़क पर फेंक दिया।

नायब तहसीलदार सदर और सीओ सकलडीहा प्रदीप सिंह चंदेल ने किसी तरह से आक्रोशित लोगों को शांत कराया और मृतका के शव को कब्जे में लेकर अन्त्य परीक्षण हेतु जिला अस्पताल भेज दिया।

इस क्रम में उपनिरीक्षक अखंड प्रताप सिंह की तहरीर पर पुलिस ने धरांव निवासी मृतका के भाई भरत चौहान तथा धानापुर कस्बा निवासी गुड्डू चौहान, कमला राम, प्यारे माली, नंदलाल आदि पांच नामजद सहित 70 अज्ञात लोगों के विरुद्ध धारा 143, 188, 283, 341, 352, 504, आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है। थाना प्रभारी विनोद कुमार मिश्रा ने बताया कि जांच की जा रही है।