बीते कई दिनों से उत्तरांचल व पश्चिमी जिलों के साथ साथ मध्यप्रदेश में हुई अनवरत वर्षा से यमुना व उसकी सहायक नदियों के जलस्तर में वृद्धि का असर चंदौली के गंगा नदी में भी दिखने लगा है।

आलम यह है कि जनपद के गंगा के तटवर्ती क्षेत्र के लगभग 2 दर्जन से अधिक गांवों में गंगा का पानी अब घुसने लगा है। जिससे बलुआ थाना क्षेत्र के महुआरी ,पकड़ी तथा चकरा सहित कई गांवों का संपर्क टूट चुका है । जल प्लावन से जहाँ लोगों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है वही स्कूली छात्रों को जान हथेली पर लेकर नावों से पढ़ने के लिए जाना पड़ रहा है। छात्रों ने बताया कि गांव से आने जाने वाले मार्ग पर डूबने से ज्यादा पानी भर गया है, जिससे नाव से स्कूल जाना मजबूरी हैं।

 

नाव से स्कूल जाना जोखिम भरा है और डर भी लगता है, लेकिन पढ़ाई जरूरी है। इसलिए जाना पड़ता है। अगर गंगा का जल स्तर इसी तरह से बढ़ता रहा तो एक दो दिन में कई गाँवों के हालात टापू जैसा नजर आयेगा।