यह है चंदौली जिले का फर्जी IPS, ऐसे हड़का कर कराता था रेल अधिकारियों से काम

यह है चंदौली जिले का फर्जी IPS, ऐसे हड़का कर कराता था रेल अधिकारियों से काम

चंदौली जिले के अलीनगर थाना क्षेत्र के कचमन गांव के रहने वाले एक जालसाज ने पिछले कुछ दिनों से रेल अधिकारियों को परेशान कर रखा था । कभी IPS बनकर वह रेल अधिकारियों को फोन करता था और मनमाने काम करने के लिए कहता था । वह कभी IPS राजीव कुमार और कभी IPS आलोक कुमार के नाम से फोन करके रेल अधिकारियों के ट्रांसफर पोस्टिंग, रेस्ट हाउस की बुकिंग और टिकट कंफर्म कराने का काम करता था।

पुलिस ने मामले की जांच करते हुए मंगलवार को उसे चंदौली जिले से गिरफ्तार किया और बुधवार को RPF में गोरखपुर में मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया।

आपको बता दें कि जालसाज 29 मार्च 2018 को फर्जी आईपीएस के नाम से पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्य सुरक्षा आयुक्त राजाराम के नंबर पर फोन किया और बताया कि वह सीबीआई लखनऊ में तैनात आईपीएस अधिकारी है और उसे गोंडा में देना एक RPF इंस्पेक्टर के खिलाफ जांच करनी है और वह मुख्य सुरक्षा आयुक्त पर उससे बात कराने का दबाव डालने लगा।

जब मुख्य सुरक्षा आयुक्त उसकी बात पर संदेह हुआ तो उन्होंने गोपनीय तरीके से फोन और मोबाइल नंबर की जांच पड़ताल शुरू कराई तो पता चला कि इस नाम का सीबीआई में कोई IPS अधिकारी नहीं है । जब मामले की जांच और गंभीरता से की गई तो पता चला कि यह एक जालसाज है जो कई रेलवे अधिकारियों को फोन करता है।

पकड़े गए जालसाज का नाम प्रेम शंकर सिंह है और यह चंदौली जिले के अलीनगर थाना क्षेत्र के कचमन गांव का निवासी है। RPF की टीम मंगलवार की देर रात कचमन से उसे गिरफ्तार किया और गोरखपुर की कोर्ट में ले जाकर की पेश किया है।

Comments

comments