चिड़ियाघर में इलाज के बाद पुन: चंद्रप्रभा अभयारण्य में छोड़ा जाएगा तेंदुआ

चिड़ियाघर में इलाज के बाद पुन: चंद्रप्रभा अभयारण्य में छोड़ा जाएगा तेंदुआ

चंदौली जिले के काशी वन्य जीव प्रभाग के जयमोहनी रेंज के धौठवां गांव के समीप जंगल में जख्मी तेंदुआ कानपुर के चिड़ियाघर में इलाज के बाद पुन: चंद्रप्रभा अभयारण्य में छोड़ा जाएगा। उसके कमर में लगी चोट का उपचार होने में एक माह से अधिक का समय लग सकता है।

 

आपको बता दें कि वन विभाग उसे दस वर्ष का बता रहा है। बताया जाता है कि इनकी अधिकतम उम्र 35 साल होती है। यानि वह पूरी तरह से वयस्क हो चुका है।

 

हालांकि इस घायल तेंदुए को चोट कैसे लगी है और किन कारणों से लगी है वन विभाग इसकी कोई पुष्टि नहीं कर पा रहा। वैसे आशंका व्यक्त की जा रही कि तेंदुआ के जख्मी होने में शिकारियों का हाथ हो सकता है।

 

 डीएफओ मनोज खरे बोले

जख्मी तेंदुए को लगी चोट के बाबत इन शिकारियों की ओर से ही कारित करने की आशंका जताई जा रही है। चोट इतनी गंभीर रही कि वन्य जीव अपनी जगह से टस से मस नहीं हो पा रहा था। जख्मी तेंदुए को कानुपर के चिड़िया घर भेजा गया है। उपचार के बाद पुन: चंद्रप्रभा अभयारण्य में छोड़ा जाएगा।

Comments

comments