27 साल पुराने हत्या के मामले में आरोप सिद्ध होने पर रसूल खान को आजीवन कारावास

27 साल पुराने हत्या के मामले में आरोप सिद्ध होने पर रसूल खान को आजीवन कारावास

चंदौली जिले के अपर सत्र न्यायाधीश एवं एफटीसी प्रथम अरविंद कुमार यादव ने 27 साल पुराने हत्या के मामले में आरोप सिद्ध होने पर आरोपित को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। वहीं 20 हजार रुपया अर्थदंड से दंडित किया।

जनपद के नौगढ़ थाना क्षेत्र के अमदहा गांव निवासी पीर मोहम्मद की चार फरवरी 1991 की रात गोली मारकर हत्याकर दी गई थी। इस मामले में मृतक पीर मोहम्मद के पट्टीदार रसूल खान को हत्यारोपी के रूप में पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

यह मामला सत्र न्यायालय में चल रहा था। अपर सत्र न्यायाधीश एवं एफटीसी प्रथम अरविंद कुमार की अदालत में नौ जनवरी को इस मामले की सुनवाई हुई। इस दौरान दोनों पक्षों की दलीले सुनने के बाद आरोपी रसूल खान को हत्या का दोषी पाते हुए आजीवन कारावास की सजा का फैसला सुनाया। वहीं 20 हजार रुपया अर्थदंड लगाया।

इसे अदा न करने पर चार माह की अतिरिक्त सजा से दंडित किया। बताया जा रहा है कि पीड़ित पक्ष की ओर से अधिवक्ता शफीक खान ने तर्क प्रस्तुत किया।

Comments

comments