चंदौली की पुलिस ने शराब की तस्करी में खाकी वर्दी की संलिप्तता को देखते हुए सोमवार की रात कार में भारी मात्रा में अंग्रेजी शराब की बरामदगी की और दो तस्कारों के गिरफ्तारी की। इस दौरान रामनगर थाने में तैनात दो सिपाहियों ने कार छुड़ाने के लिए जिले की पुलिस टीम के साथ हाथापाई तक की। मुगलसराय कोतवाली पुलिस ने दोनों सिपाही व दोनों तस्कर को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेशी के बाद जेल भेज दिया। बिहार में शराब बंदी के बाद तस्करों के साथ ही पुलिस की मिलीभगत से लाखों रुपये की प्रतिदिन अवैध शराब की तस्करी कर यूपी-बिहार बार्डर पास कराया जा रहा है।


एसपी हेमंत कुटियाल ने मंगलवार को पुलिस लाइन में मामले का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि मुगलसराय कोतवाल शिवानंद मिश्रा को सोमवार की रात लगभग पौने 11 बजे मुखबिर से सूचना मिली की दो कार में भारी मात्रा में अंग्रेजी शराब बिहार ले जाया जा रहा है।

कोतवाल शिवानंद मिश्रा ने तत्काल मयफोर्स और सर्विलांस व क्राइम ब्रांच के साथ औद्योगिक नगर के समीप हाईवे पर घेरेबंदी की। थोड़ी देर में कार को रोककर तलाशी ली गई। कार की डिग्गी में 566 शीशी अंगे्रजी शराब मिली। बरामद शराब की कीमत लगभग पांच लाख रुपये आंकी गई है। इसी बीच आरोपित तस्कर दीपक के मोबाइल पर विकास नाम के व्यक्ति का फोन आया। दीपक के कहने पर विकास ने रामनगर थाने में तैनात सिपाही वैभव कुमार यादव व सोनू यादव को भेजा। दोनों सिपाहियों ने पहुंचकर कार को छोड़ने का दबाव बनाया।

कोतवाली पुलिस के मना किए जाने पर दोनों सिपाही हाथापाई पर उतारू हो गए। पुलिस ने दोनों सिपाही वैभव यादव व सोनू यादव के अलावा हरियाणा के अंतर्राप्रांतीय तस्कर संदीप सिंह व दीपक को गिरफ्तार कर लिया। आरोपित तस्कर संदीप सिंह लेवा मजारा थाना सतर जिला झंझर और दीपक आदर्श नगर थाना सिटी बहादुरगढ़ जिला झंझर के निवासी हैं।

गिरफ्तार करने वाली टीम में कोतवाल शिवानंद मिश्रा, क्राइम ब्रांच प्रभारी सत्येंद्र यादव, एसआई राजनारायण पांडेय, सत्येंद्र विक्रम सिंह, राजकुमार पांडेय, अमित कुमार, हेड कांस्टेबल प्रह्लाद सिंह व चंद्रशेखर समेत अन्य पुलिसकर्मी शामिल रहे।