चंदौली जिले के गोपालीपुर गांव में पुलिस उत्पीड़न को लेकर ग्रामीणों में दहशत है। शुक्रवार को पूर्व सांसद रामकिशुन यादव ने ग्रामीणों से मिलकर जानकारी ली। पूर्व सांसद ने ग्रामीणों की समस्या से जिलाधिकारी को अवगत कराया। चेताया ग्रामीणों का उत्पीड़न बंद नहीं किया गया, तो आन्दोलन किया जायेगा।

एक सितम्बर को उपमुख्य पशु चिकित्साधिकारी एके वैश्य टीम के साथ गोपालीपुर गांव में आवारा पशुओं को पकड़ने के लिए पहुंचे। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि टीम पशुओं को बेहोश कर नसबंदी करते हुए जेसीबी से खींचकर वाहन में लाद रही थी। पशु क्रूरता देख ग्रामीण विरोध करने लगे। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने ग्रामीणों पर पथराव का आरोप लगाकर मुकदमा दर्ज करा दिया। शिकायत मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंचकर चार नामजद व 25 अज्ञात पर मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई में जुट गई। इसमें चार लोगों को जेल भेज चुकी है। वही अन्य आरोपिताें की गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है।

आरोप है कि पुलिस गांव में पहुंचकर दरवाजा तक तोड़ दे रही है। इससे दर्जनों ग्रामीण अन्य जगह पर शरण लिये है। आरोप है कि इस दौरान पुलिस महिलाओं से भी बदसलूकी कर रही है।

शुक्रवार को पूर्व सांसद रामकिशुन यादव गांव में पहुंचकर पीड़ितों से मुलाकात की। वह पूरे प्रकरण से जिलाधिकारी को अवगत कराया। इस मौके पर पूर्व जिला पंचायत सदस्य विजेन्द्र यादव, मनोज यादव आदि मौजूद रहे।