अंडरवर्ल्ड के नाम पर जनप्रतिनिधियो को ही बनाता था अपना शिकार, ऐसे पकड़ा गया शातिर

अंडरवर्ल्ड के नाम पर जनप्रतिनिधियों को ही बनाता था अपना शिकार, ऐसे पकड़ा गया शातिर

चंदौली जिले में  वाराणसी का कुख्यात इनामी बदमाश सोनू उर्फ शंभूनाथ उर्फ मनीष अरोड़ा चंदौली पुलिस के हत्थे चढ़ गया। उसे क्राइम ब्रांच की टीम ने पीडीडीयू नगर एवं बलुआ पुलिस के सहयोग से दबोच लिया। 15 हजार का इनामी बदमाश 22 नवंबर को भाजपा नेता एवं जिला पंचायत सदस्य के पति शिवशंकर पटेल से रंगदारी मांगने के बाद सुर्खियों में आया था। बदमाश पहले भी जनप्रतिनिधियों से रंगदारी मांगने के आरोप में जेल जा चुका है। बदमाश की गिरफ्तारी से चंदौली के साथ ही वाराणसी पुलिस ने भी राहत की सांस ली है।

मातहतों की उपलब्धियां लिए एसपी संतोष कुमार सिंह रविवार को मीडिया से मुखातिब हुए। उन्होंने बताया कि 22 नवंबर को सोनू ने भाजपा नेता के कार्यालय पर पहुंचकर रंगदारी मांगी थी। जनप्रतिनिधि ने आरोपित बदमाश के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

चूंकि बदमाश ने पहले वर्ष 2016 में उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष शकील अहमद बबलू को धमकी दी थी। उसने धमकी देने के मामले में 50 हजार के इनामी बदमाश मनीष सिंह सोनू का नाम लिया था। धमकी दी गई थी कि रंगदारी न मिलने पर एके-47 से एक घंटे बाद ही भून दिया जाएगा। हालांकि पुलिस ने भनक लगने के कुछ देर बाद ही बदमाश को दबोच लिया था।

वर्ष 2016 में मऊ में बसपा के पूर्व विधानसभा प्रत्याशी एवं जिला पंचायत सदस्य मनोज राय से सोनू सिंह के नाम पर पांच लाख की रंगदारी मांगी गई थी। हालांकि वाराणसी पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने उसे गिरफ्तार कर लिया था।

सलाखों से बाहर आने के बाद सोनू फिर से जरायम में पकड़ मजबूत करने को भाजपा नेता को ही निशाने पर ले लिया। पुलिस की किरकिरी हुई तो खाकी उसके पीछे पड़ गई। मुखबिर पीछे लगे तो बलुआ इलाके से 262 ग्राम हेरोइन के साथ पुलिस ने उसे दबोच लिया। बरामद हेरोइन की कीमत लाखों में आंकी जा रही है। उसके खिलाफ विभिन्न अपराधों के 17 मुकदमे दर्ज है।

Comments

comments