प्रबोधनी एकादशी पर मां को बलुआ पश्चिमी वाहिनी गंगा तट पर नहलाने ले गया 16 वर्षीय पुत्र सकलडीहा निवासी शशि राय की गंगा में डूबने से मौत हो गई। करीब तीन घंटे बाद मछुवारों ने जाल से शव को बाहर निकाला। इस दौरान मां गंगा घाट पर विलाप करती रहीं। पुलिस शव को कब्जे में लेकर अगली कार्रवाई में जुट गई।

सकलडीहा निवासी अनोखे राय की पत्नी शायना देवी प्रबोधनी एकादशी का व्रत थी। सुबह परिजनों से गंगा नहाने की इच्छा जाहिर की। इस दौरान पिता के कहने पर 16 वर्षीय पुत्र शशि राय मां को बलुआ गंगा घाट स्नान कराने लेकर पहुंचा। गंगा घाट पर एक तरफ मां के साथ ही पुत्र नहाने लगा। वही मां नहाकर बाहर निकलकर बेटे को खोजने लगी। लेकिन बेटा के नहीं दिखने पर विलाप करने लगी। इसकी जानकारी होते ही पुलिस व परिजन पहुंच गये।

इस दौरान घाट पर उपस्थित मछुआरों ने जाल की मदद से करीब तीन घंटे बाद शव को बाहर निकाला। शव को देखते ही मां बेहोश हो गई, जबकि परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल रहा। बलुआ इंस्पेक्टर अतुल नारायन सिंह ने बताया कि शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया।