सरकार के फरमान का चंदौली जिले में विरोध जारी है। एप के जरिए स्कूलों की निगरानी को शुरू किए गए प्रेरणा एप के खिलाफ शिक्षकों का विरोध बढ़ता जा रहा है। दूसरे दिन शिक्षक दिवस के अवसर पर गुरुवार को शिक्षकों ने सदर ब्लाक परिसर में धरना दिया। प्रेरणा एप्लीकेशन लांच कर प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए जमकर नारेबाजी की। सरकार से प्रेरणा एप की बाध्यता को तत्काल समाप्त करने की मांग की। चेताया यदि फैसले पर पुनर्विचार नहीं किया गया तो बीआरसी पर तालाबंदी कर शिक्षण कार्यो के विरत रहते हुए आंदोलन को विवश होंगे।

वक्ताओं ने कहा शिक्षक विद्यार्थियों के बीच मानवीय मूल्यों को पुष्पित व पल्लवित करने का काम करते हैं। छात्र-छात्राओं का भविष्य संवारने के साथ ही समाज को भी दिशा प्रदान करते हैं। लेकिन सरकार ने अब शिक्षकों का उत्पीड़न शुरू कर दिया है। प्रेरणा अप्लीकेशन लांच कर शिक्षकों की गतिविधियों पर नजर रखने की योजना बनाई गई है। इससे अध्यापकों की निजता छिन जाएगी। प्रेरणा अप्लीकेशन के खिलाफ आंदोलन शुरू किया गया है। सरकार को अपना फैसला वापस लेना होगा। वरना शिक्षण कार्य से विरत रहते हुए आंदोलन को और धार देने की कोशिश की जाएगी।

सभी ने एक सुर से कहा कि धरना-प्रदर्शन 13 सितंबर तक जारी रहेगा। अंतिम दिन मुख्यमंत्री के नाम संबोधित पत्रक जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल को सौंपा जाएगा। सुनील सिंह, आनंद सिंह, रामइच्छा सिंह, उपेंद्र बहादुर सिंह, सच्चिदानंद पांडेय, डा. संजय सिंह, देवेंद्र प्रताप सिंह आदि शामिल रहे।