अब वृद्ध पेंशनरों को जीवित प्रमाण देने के लिए नहीं लगाना होगा ट्रेजरी ऑफिस का चक्कर

अब वृद्ध पेंशनरों को जीवित प्रमाण देने के लिए नहीं लगाना होगा ट्रेजरी ऑफिस का चक्कर

चन्दौली जिले में सरकार की मनसा के अनुरूप जनपद के कोषागार अधिकारी सदन गोपाल मिश्रा ने पेंशन प्राप्त कर रहे पेंशनर/परि0 पेंशनरों को जीवित प्रमाण पत्र देने के लिए जनपद के दूर दराज के क्षेत्रों से आने की कठिनाई को देखते हुए जिला मुख्यालय के ट्रेजरी आफिस की गणेश परिक्रमा करने की बाध्यता को समाप्त करते हुए जनपद के विभागीय लगभग 5 दर्जन से अधिक अधिकारियों को चिन्हित किया है, जिन अधिकारियों की कलम से आहरण वितरण होता है, वे सभी अधिकारी पेंसनरों का प्रमाण पत्र अग्रसारित कर सकते हैं।

इसके बाद उस प्रमाण पत्र को परिवार का कोई सदस्य किसी भी कार्य दिवस के दौरान कोषागार में जमा कर सकता है । माह नवंबर में ही जीवित प्रमाण पत्र जमा किए जाने की बाध्यता नहीं है। वर्ष के किसी भी माह में जीवित प्रमाण पत्र जमा किया जा सकता है। जिस तिथि को जीवित प्रमाण पत्र जमा किया जाएगा उसके अगले 1 वर्ष के भीतर अगला जीवित प्रमाण पत्र जमा किया जाना अनिवार्य है ।

मिश्र ने कहा कि असहाय एवं अति वृद्ध पेंशन को आश्रितों द्वारा आवेदन देने पर कोषागार द्वारा पेंशनर /पारि0 पेंशनर के घर जाकर सत्यापन किया जा सकता है । पेंशनर की संख्या अधिक होने के दृष्टिगत पेंशनरों को विकास खंड स्तर के अनुसार किया जाएगा।

कहा कि विकास खंड नौगढ व नियमताबाद में 1 नवंबर 2018 से 10 नवंबर 2018 तक, विकास खंड चंदौली व चकिया में 11 नवंबर से 20 नवंबर 2018 तक, विकास खंड शाहबगंज बरहनी में 21 नवंबर से 30 नवंबर तक , विकासखंड सकलडीहा में 1 दिसंबर से 10 दिसंबर तक चहनियां धानापुर विकास खंड में 11 दिसंबर से 20 दिसंबर 2018 तक जमा किया जाएगा ।

वहीं जनपद में 10273 सभी पेंशनरों में से 6493 पेंशनरों का डिजिटल लाइफ सिग्नेचर रजिस्ट्रेशन हो चुका है बाकी लोगों का एक बार कोषागार में डिजिटल सिगनेचर होने के बाद वह अपने नजदीकी किसी भी कंप्यूटर सेंटर से प्रतिवर्ष डिजिटल सिगनेचर देते रहेंगे और कार्यालय में उनको उपस्थित होने की बाध्यता नही रहेगी ।

Comments

comments