चंदौली जिले की पिछड़ा वर्ग महिला के लिए आरक्षित एकौनी ग्राम प्रधान पद के लिए सोमवार को सदर ब्लाक सभागार में मतों की गिनती हुई। इसमें उषा देवी 219 मतों से जीत दर्ज कर ग्राम प्रधान निर्वाचित हुईं। पति की मौत के बाद उन्होंने ग्राम पंचायत की कमान संभाली है। मतगणना के दौरान ब्लाक परिसर में गहमागहमी रही। जीत से समर्थकों में खुशी का माहौल रहा। समर्थकों ने उन्हें फूलमालाओं से लाद दिया।

एकौनी गांव में ग्राम प्रधान के खाली पद के लिए दिवंगत ग्राम प्रधान लक्ष्मण की पत्नी उषा देवी व प्रतिद्वंदी संजू देवी चुनाव मैदान में थीं। छह जुलाई को मतदान हुआ था। 1088 में 772 मतदाताओं ने मतदान किया था। मतगणना के दौरान उषा को 492 मत मिले। संजू देवी को 273 वोट मिले। जबकि सात मत अवैध पाए गए। उषा ने 219 मतों से जीत दर्ज कर ग्राम प्रधान पद पर कब्जा जमाया। आरओ नीरज श्रीवास्तव व एआरओ चंदन यादव की देखरेख में मतगणना का काम संपन्न हुआ। उन्होंने विजयी प्रत्याशी को प्रमाण पत्र प्रदान किया।

सकलडीहा के विशुनपुरा गोहदा गांव की निर्विरोध चयनित ग्राम प्रधान बिन्दुमती यादव और ताजपुर की बीडीसी विभा सिंह को सोमवार को सहायक निर्वाचन अधिकारी शशिकांत पांडेय व बीडीओ गुलाबचन्द्र सोनकर ने प्रमाण पत्र दिया। विशुनपुरा के प्रधान मनोज यादव की सड़क दुर्घटना व ताजपुर बीडीसी आरती सिंह की हृदयाघात से मृत्यु होने से दोनों पद रिक्त थे।

आपको बता दें कि राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देश पर बीते 26 जून को नामांकन की प्रक्रिया शुरू हुई थी। विशुनपुरा गोहदा गांव से दिवंगत प्रधान की पत्नी बिदुमति व ताजपुर से विभा सिंह ने नामांकन किया था। दोनों प्रधान पद पर एक-एक उम्मीदवारों के पर्चा दाखिल करने से उनका निर्विरोध निर्वाचन किया गया।