चंदौली के जिले के मुगलसराय इलाके के धर्मशाला रोड पर एक होटल में मंगलवार की सुबह फांसी लगाकर जाने देने वाले दानापुर (बिहार) के आभूषण व्यवसायी विक्की की मौत का कारण पता चल गया है। व्यवसायी का होटल के कमरे में पंखे से लटकता शव मिला था। पुलिस ने बुधवार को पोस्टमॉर्टम के बाद परिजन को शव सौंप दिया।

दानापुर निवासी अर्जुन प्रसाद ट्रांसपोर्ट का व्यवसाय करते है। उनके दो बेटों में बड़ा विकास सोनी उनके साथ ट्रांसपोर्ट के धंधे में है। छोटा विक्की सोनी दानापुर बाजार में आभूषण की दुकान चलाता था। धंधा नहीं चलने से विक्की अक्सर परिजनों से 10-20 हजार रुपये की डिमांड करता रहता था। रुपये नहीं देने पर आत्महत्या की धमकी देता था।

वह अक्सर व्यापार के सिलसिले में वाराणसी जाता था। विक्की ने शुक्रवार की शाम अपनी मां संजू देवी से रुपये मांगा। घर में रुपये नहीं होने पर संजू देवी ने मना कर दिया। इससे नाराज होकर विक्की घर से निकल गया। वह शनिवार की भोर लगभग साढ़े तीन बजे पीडीडीयू नगर के एक होटल में पहुंचा। जहां कमरा नंबर 105 में ठहरा था।

तीन दिन बाद कमरे के अंदर से दुर्गंध निकलने पर पंखे से लटकता उसका शव मिला। घटना की जानकारी पर बड़ा भाई विकास सोनी समेत परिवार के अन्य सदस्य मंगलवार की देर शाम रोते बिलखते पहुंचे। परिजन बुधवार की सुबह पोस्टमॉर्टम के बाद शव अपने साथ बिहार ले गए। सीओ सदर त्रिपुरारी पांडेय ने बताया कि विक्की ने होटल के कमरे में आत्महत्या कर ली थी। परिजनों का बयान दर्ज करने के बाद शव सौंप दिया गया। परिजनों की ओर से कोई तहरीर नहीं दी गई है।