चंदौली जिले में पिछले छह माह से रिक्त चल रहे शहाबगंज ब्लाक प्रमुख पद के लिए मतदान 19 जुलाई को होगा। इसके लिए 17 को नामांकन व 18 जुलाई को नाम वापसी की तिथि तय की गई है। निवार्चन की पूरी प्रक्रिया चकिया एसडीएम की देखरेख में होगी। इसकी घोषणा के साथ जनपद की राजनीतिक फिजा गरमा गई है।

घोड़सारी गांव की क्षेत्र पंचायत सदस्य सरोज सिंह के नेतृत्व में 30 नवंबर 2018 को क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने लटाव गांव की बीडीसी व ब्लाक प्रमुख शशि उपाध्याय के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया था। ब्लाक के 75 में 44 क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल के समक्ष कलेक्ट्रेट में परेड कर हलफनामा सौंपा था। क्षेत्र पंचायत सदस्यों के अभिलेखों का अवलोकन करने के बाद दिसंबर 2018 में शहाबगंज ब्लाक सभागार में अविश्वास प्रस्ताव पर बहस व चर्चा हुई थी। इसमें अविश्वास प्रस्ताव स्वीकृत होने के बाद ब्लाक प्रमुख का पद रिक्त था।

बता दें कि इसके बाद लोकसभा चुनाव के चलते उप चुनाव की प्रक्रिया छह माह तक लंबित रही। निर्वाचन आयोग की ओर से ब्लाक प्रमुख पद के उपचुनाव की अधिसूचना जारी कर दी गई है। इसके अनुसार 17 जुलाई को उम्मीदवारों का नामांकन और पर्चों की जांच होगी। 18 जुलाई को नामांकन वापसी होगी। वहीं 19 जुलाई को मतदान होगा। इसके बाद मतों की गिनती का काम पूरा किया जाएगा।

यहां होने वाले उपचुनाव के लिए चकिया एसडीएम प्रदीप कुमार सिंह को जोनल मजिस्ट्रेट बनाया गया है। जबकि कृषि उपनिदेशक विजय सिंह को सहायक निर्वाचन अधिकारी व डीआइओएस डा. विनोद कुमार राय को अतिरिक्त सहायक निर्वाचन अधिकारी बनाया गया है।

दोबारा जीत की आस में सरोज सिंह

शहाबगंज ब्लाक प्रमुख की कुर्सी लंबे समय तक किसी के पास नहीं रही। घोड़सारी गांव की क्षेत्र पंचायत सदस्य सरोज सिंह ब्लाक प्रमुख निर्वाचित हुई थी लेकिन, डेढ़ साल के अंदर ही जून 2017 में लटाव गांव की क्षेत्र पंचायत सदस्य शशि उपाध्याय के नेतृत्व में बीडीसी ने ब्लाक प्रमुख के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया था। वहीं उपचुनाव में सरोज सिंह को हराकर शशि उपाध्याय ब्लाक प्रमुख बनीं। एक वर्ष बाद ही क्षेत्र पंचायत सदस्यों का अंसतोष दोबारा जाग उठा और पाला बदलते हुए सरोज सिंह के नेतृत्व में ब्लाक प्रमुख के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश कर दिया।

 

जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल बोले

शहाबगंज ब्लाक प्रमुख पद पर उपचुनाव के लिए निर्वाचन आयोग की ओर से तिथि निर्धारित कर दी गई हैं। उपचुनाव के लिए जोनल मजिस्ट्रेट के साथ ही सहायक निर्वाचन अधिकारियों की भी नियुक्ति कर दी गई है।