यूरिया के एक दुकान का लाइसेंस रदद् ,चार दुकानदारों को कारण बताओ नोटिस जारी

चंदौली जिले में यूरिया खाद की ब्लैक मार्केटिंग की मिल रही शिकायत पर जिला प्रशासन व कृषि विभाग की टीम ने धानापुर विकास खंड में उर्वरक प्रतिष्ठानों में छापेमारी कर खामियां मिलने वाले एक दुकान के अधिकार पत्र निलंबित करने तथा 4 उर्वरक केंद्रों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया।

बताते चलें कि जनपद में इस समय यूरिया खाद की समस्या से जूझ रहे किसानों को यूरिया की खरीदारी करने के लिए अधिक दाम देने पड़ रहे हैं जिसकी शिकायत अपर मुख्य सचिव कृषि उत्तर प्रदेश शासन के निर्देश के क्रम में जिला अधिकारी संजीव सिंह के निर्देशन में थोक एवं फुटकर और उर्वरक प्रतिष्ठानों के लिए गठित की गई टीम द्वारा छापेमारी कर उनके अभिलेख और नमूने संग्रहित किए गए। कृषि विभाग तथा जनपद के अन्य विभागों के अधिकारी की नामित टीम द्वार उर्वरक के कुल 20 नमूने लिए गए ।


धानापुर विकास खंड के एक उर्वरक प्रतिष्ठान द्वारा स्टाक पंजिका प्रस्तुत न किए जाने के कारण उक्त फर्म के पक्ष में निर्गत किया गया अधिकार पत्र निलंबित कर दिया गया । क्षेत्र के चार उर्वरक प्रतिष्ठानों को कारण बताओ नोटिस निर्गत किया गया है।


इस संबंध में जिला कृषि अधिकारी राजीव कुमार भारती ने बताया कि उर्वरक प्रतिष्ठानों को निर्देशित किया गया है कि गुणवत्ता युक्त एवं निर्धारित दर पर पी0ओ0एस0 मशीन के माध्यम से किसानों को उर्वरक वितरित किया जाए।

यदि इसके अलावा किसी अन्य माध्यम से खाद वितरित किया जाता है तो उनके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। यदि उर्वरक की बिक्री दर से अधिक होती है तो उर्वरक प्रतिष्ठान के विरुद्ध उर्वरक अधिनियम की धाराओं के अंतर्गत कार्यवाही कर उनके संस्थान एवं उनके खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किया जाएगा।