SDM और कोतवाल को हटाने की मांग पर अड़े हैं अधिवक्ता, न्यायिक कार्य का बहिष्कार

चंदौली जिले के सकलडीहा तहसील में गुरुवार को भी अधिवक्ताओं ने न्यायिक कार्य का बहिष्कार करते हुए सकलडीहा एसडीएम प्रदीप कुमार व कोतवाल बंदना सिंह के स्थानांतरण की मांग पर अडिग रहें।


बुधवार को सकलडीहा कोतवाली के नई बाजार गांव निवासी अधिवक्ता महेंद्र राजभर को पुलिस द्वारा जमीनी विवाद में सकलडीहा कोतवाली में बंद कर 151 में चालान कर दिया गया था वही एसडीएम द्वारा जमानत करने में तत्काल आनाकानी करने पर अधिवक्ता बेहद आक्रोश में रहे।

अधिवक्ताओं ने बुधवार को ही घोषणा कर दिया था कि जब तक एसडीएम एवं सकलडीहा कोतवाल का ट्रांसफर नहीं हो जाता है तब तक अधिवक्ता न्यायिक कार्य का बहिष्कार करते रहेंगे ।
गुरुवार को भी अधिवक्ता अपनी मांगों पर अडिग रहते हुए तहसील में न्यायिक कार्य का बहिष्कार किया। यही नहीं बार एसोसिएशन के अध्यक्ष पर भी नाराजगी जताते हुए अध्यक्ष को हटाने की भी मुहिम छेड़ दी है।

कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में रोहित कुमार सिंह का चयन कर उनकी अध्यक्षता में बैठक का कार्य कर रहे हैं। इस पूरे मामले में बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक कुमार यादव पर अधिवक्ताओं ने एसडीएम के साथ पक्षपात करने का आरोप लगाया है।

अधिवक्ताओं ने बुधवार को ही घोषणा कर दिया था कि जब तक एसडीएम एवं सकलडीहा कोतवाल का ट्रांसफर नहीं हो जाता है तब तक अधिवक्ता न्यायिक कार्य का बहिष्कार करते रहेंगे ।
गुरुवार को भी अधिवक्ता अपनी मांगों पर अडिग रहते हुए तहसील में न्यायिक कार्य का बहिष्कार किया। यही नहीं बार एसोसिएशन के अध्यक्ष पर भी नाराजगी जताते हुए अध्यक्ष को हटाने की भी मुहिम छेड़ दी है।

कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में रोहित कुमार सिंह का चयन कर उनकी अध्यक्षता में बैठक का कार्य कर रहे हैं। इस पूरे मामले में बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक कुमार यादव पर अधिवक्ताओं ने एसडीएम के साथ पक्षपात करने का आरोप लगाया है।