मिट्टी की उर्वरा शक्ति बचानी हो तो करें जैविक खेती

चंदौली जिला के चकिया नगर के विभूति नगर स्थित कृभको सेवा केंद्र परिसर में रविवार को किसान गोष्ठी का आयोजन किया गया।
कृषि विशेषज्ञों, तथा प्रगतिशील किसानों ने खेतों की उर्वरा शक्ति बचाने के लिए जैविक विधि से खेती करने के साथ उसके फायदे की विधिवत जानकारी दी गई ।

कृषि विशेषज्ञों ने आयोजित गोष्ठी के दौरान कहा कि गलत रासायनिक उर्वरकों के प्रयोग से मिट्टी की उर्वरा शक्ति खराब हो रही है। मिट्टी की उर्वरा शक्ति बचाने के लिए कामयाब रासायनिक के प्रयोग से जैविक खेती करके कम लागत में अधिक उत्पादन किसान कर सकते हैं। उन्होंने कहा इसके लिए किसानों को जागरूक होने की अत्यंत आवश्यकता है।

कृषि विशेषज्ञ कपिल देव सिंह ने जैविक खेती के तौर-तरीके की विस्तार से जानकारी देते हुए मौजूद किसानों को कहा कि गलत रासायनिक प्रयोग के कारण हो रहे उपजाऊ जमीन को बंजर बनाने से हम सभी को जागरूक होकर बचाने की जरूरत है। उन्होंने किसानों को कृषि संबंधित बारीकियों की विस्तार पूर्वक जानकारी दी।
कृभको केंद्र प्रभारी रमेश चंद्र शुक्ला ने कहा कि किसान गोष्ठी का आयोजन किसानों को जागरूक करना है।


इस अवसर पर मंगला प्रसाद राय, अमित कुमार द्विवेदी, रामप्यारे शुक्ला, राजेश कुमार, अर्जुन सिंह पटेल, तेजू प्रसाद, कृष्णवंश सिंह आदि किसान मौजूद रहे ।
गोष्ठी की अध्यक्षता अध्यक्षता मंगला प्रसाद राय ने संचालन केंद्र प्रभारी रमेश चंद्र शुक्ला ने किया।