अलीनगर पुलिस ने पकड़ी अवैध शराब फैक्ट्री, 4 अभियुक्तों भी गिरफ्तार

चंदौली जिले के पुलिस व आबकारी विभाग की संयुक्त टीम ने आज अवैध देशी शराब फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है। रेमा गांव में छापेमारी कर एक मकान से भारी मात्रा में अपमिश्रित देशी शराब, नकली रैपर व खाली शीशियां व अन्य सामग्री बरामद की गई। पुलिस ने अवैध शराब बनाने के आरोप में चार आरोपित को गिरफ्तार किया है। एएसपी दयाराम ने अलीनगर थाने में अवैध शराब बनाने वाले गिरोह का खुलासा किया।

एएसपी दयाराम ने बताया कि गिरोह के सदस्य स्प्रीट को देशी शराब की खाली शीशियों में भरकर उस पर नकली रैपर लगा देते थे। बिहार में शराब बंदी का फायदा उठाकर वहां ऊंचे दाम पर बेच देते थे। वहीं चंदौली जिले में भी जब शराब की दुकानें बंद हो जाती थी, तो झोले में रखकर बेचकर मुनाफा कमाते थे। चारों आरोपित ने बेरोजगारी की वजह से गोरखधंधा शुरू करने की बात कुबूल की।

उन्होंने बताया कि प्रदेश के कई जिलों में जहरीली शराब से मौत के बाद जिले में भी व्यापक स्तर पर अभियान चलाया जा रहा है। इसी क्रम में आबकारी विभाग को मुखबिर से रेमा गाने के एक मकान में अवैध तरीके से देशी शराब बनाने की सूचना मिली। इस पर थाना प्रभारी संतोष सिंह व आबकारी निरीक्षक ज्ञानप्रताप सिंह ने संयुक्त टीम बनाकर गुरुवार की सुबह छापेमारी की।

रेमा गांव निवासी संतोष यादव के मकान में अवैध तरीके से नकली शराब बनाने का कारखाना मिला। मकान के अंदर 177 शीशी अपमिश्रित देशी शराब, चार ड्रम में 750 लीटर स्प्रीट, 30 लीटर अपमिश्रित देशी शराब, 1700 ब्लू लाइन ब्रांड का रैपर, एक बंडल क्यू आर कोड, तीन बोरी में खाली शीशियां, एक झोले में ढक्कन, दो कीप व 12 गत्ता, पांच खाली पिपिया, एक मालवाहक व एक कार बरामद की गई।

आरोपित अलीनगर थाना क्षेत्र के रेमा गांव निवासी संतोष यादव, बृजेश यादव व विनोद यादव और सदर कोतवाली क्षेत्र के लीलापुर निवासी अजीत सिंह उर्फ विक्की को गिरफ्तार किया गया।

इस दौरान गिरफ्तार करने वाली टीम में थाना प्रभारी संतोष सिंह, आबकारी निरीक्षक ज्ञानप्रताप सिंह, एएसआई रमेश यादव, एसआई श्रीकांत पांडेय, बाबूराम यादव, नीलम त्रिपाठी, ताराचंद्र सिंह समेत अन्य पुलिसकर्मी शामिल रहे।