अब अमेरिका में बिकेगा चंदौली का ब्लैक राइस, एग्रीमेंट करने आ गए खरीदार

चंदौली जिले में पैदा होने वाले काला चावल (ब्लैक राइस) के खरीदारों की संख्या बढ़ने वाली है। अब बासमती चावल को ब्रांड के रूप में दुनिया में स्थापित करने वाली देश की नामी एग्रो कंपनी अब चंदौली का काला चावल खरीदने की योजना बना रही है।

चावल को अमेरिका के लिए निर्यात किया जाएगा। कंपनी के प्रतिनिधि जेके मिश्र धान की फसल का जायजा लेने के लिए जनपद में आए हैं। तीन दिनों तक प्रवास के दौरान काला धान की खेती का अवलोकन करेंगे। मानक के अनुरूप फसल मिलने पर कंपनी चंदौली काला चावल उत्पादन समिति के साथ करार करेगी। वहीं कटाई के बाद दिसंबर माह में धान खरीदकर ले जाएगी। इससे अन्नदाता मालामाल हो जाएंगे।

फिलहाल चंदौली जिले में इस साल करीब 500 हेक्टेयर भूमि में किसानों ने काला चावल की खेती की है। गत वर्ष यहां का काला चावल ऑस्ट्रेलिया निर्यात हुआ था। देश की नामी एग्रो कंपनी ने चंदौली का काला धान खरीदने में दिलचस्पी दिखाई है। इसको लेकर प्रशासन व कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ कई बार कंपनी के प्रतिनिधियों की वार्ता हुई। कंपनी के प्रतिनिधियों ने मानक के अनुरूप होने पर काला धान खरीदने का भरोसा दिलाया।

इस सिलसिले में कंपनी के प्रतिनिधि जेके मिश्रा मंगलवार को चंदौली आए। कृषि रक्षा अधिकारी अमित जायसवाल व चंदौली काला चावल समिति के अध्यक्ष शशिकांत राय के साथ नरवन क्षेत्र का भ्रमण कर खेत में खड़ी किसानों की फसल का अवलोकन किया। तीन दिनों तक जिले में विभिन्न स्थानों पर भ्रमण कर कंपनी के प्रतिनिधि जायजा लेंगे।

जेके मिश्र ने बताया कि यदि फसल मानक के अनुरूप रही तो किसानों संग करार होगा। इसके बाद कंपनी निर्धारित कीमत पर धान खरीदेगी। इसकी दराई कराकर चावल अमेरिका समेत अन्य देशों में निर्यात किया जाएगा।

कृषि रक्षा अधिकारी ने कहा, विभाग किसानों को काला चावल की बेहतर कीमत दिलाने की कोशिश कर रहा है। इसके तहत कंपनी के प्रतिनिधियों से संपर्क किया गया।