रामअचल राजभर के मामले को लेकर जिले के दर्जनों राजभरों ने बसपा पार्टी को छोड़ा

चंदौली जिले के जिला मुख्यालय पर ज्योति लान में आहूत आकस्मिक बैठक में पूर्व मंत्री डा. रमाशंकर राजभर ने कहा कि रामअचल राजभर को मनगढंत व फर्जी आरोप लगाकर बसपा से निष्कासित किया गया है। जो कि हम सभी के लिए कष्टकारी है। यह राजभर समाज का अपमान है। ऐसी स्थिति में राजभर समाज का बसपा मे बने रहना मान-सम्मान के खिलाफ है।

उन्होंने कहा कि राजअचल राजभर ने बसपा को उम्दा मुकाम तक पहुंचाने में अपना सबकुछ न्यौछावर कर दिया। इसके बावजूद बसपा सुप्रीमो ने राजभर समाज के नेताओं के त्याग, समर्पण व निष्ठा को अपनाने की बजाय उसे अपमानित करने का काम किया है। बसपा सुप्रीमो मायावती का यह कदम आत्मघाती है। साथ ही इनके कुंठित होने का परिचायक भी है। अब राजभर समाज बसपा से नहीं जुड़ेगा। इसके लिए जल्द ही समाज के लोगों के साथ बैठक सर्वसम्मति से कोई निर्णय लिया जाएगा।

इस दौरान सूबेदार राजभर, गायत्री राजभर, ओमप्रकाश राजभर, अवधेश राजभर, श्रवण राजभर, विजयी राजभर, दीना राजभर, महेंद्र राजभर, राहब राजभर, अवध नारायण राजभर, अवध नारायण राजभर, मनोज राजभर, दरोगा राजभर, प्रभाकर राजभर, अभय सिंह आदि ने बसपा से त्याग पत्र दे दिया।