पंचायत चुनाव में कैसे कराएं कोविड प्रोटोकाल का पालन, दूसरे जिले में गयी है फोर्स

चंदौली जिले में पंचायत चुनाव के बीच कोरोना संक्रमण भी गंभीर हो गया है। ऐसे में आमजन के कोविड प्रोटोकाल का पालन कराने के लिए फोर्स की कमी हो गई है। पुलिस महकमा जवानों की कमी से जूझ रहा है।

दरअसल जिले से काफी संख्या में पुलिसकर्मी गैरजनपदों में चुनाव कराने के लिए चले गए हैं। इससे समस्या खड़ी हो गई है। मास्क और कोविड प्रोटोकाल को लेकर जांच अभियान नहीं चलाया जा रहा है। हालांकि जवानों की वापसी के बाद अभियान पुन: चलाया जाएगा।

जिले से फोर्स आजमगढ़, जौनपुर और वाराणसी में चुनाव कराने के लिए भेजी गई है। लगभग 200 जवानों को गैरजनपद भेजा गया है। ऐसे में थानों में पुलिसकर्मियों की कमी हो गई है। थाना व कोतवाली में थानाध्यक्ष, दीवान और होमगार्ड ही बचे हैं। ऐसे में लाकडाउन के दिन रविवार को भी फोर्स सड़क पर नहीं उतरी। हालांकि लोगों ने स्वत: कोरोना को हराने के लिए प्रतिबद्धता दिखाई। छुट्टी के दिन लाकडाउन रहा तो गिने-चुने लोग ही सड़कों पर निकले। ऐसे में पुलिस के लिए कोई खास चुनौती नहीं थी।

हालांकि अभी भी बिना मास्क के घूमने वालों की कमी नहीं है। चुनाव बिताने के बाद फोर्स मंगलवार को जिले में पहुंचेगी। इसके बाद विभाग अभियान चला सकता है। खासतौर से मास्क की जांच की जाएगी। शासन मास्क को लेकर सख्त है। एक हजार रुपये जुर्माना लगाने का निर्देश दिया गया है। इसको लेकर पुलिस अधीक्षक अमित कुमार ने भी निर्देश दिया है। हालांकि फोर्स की कमी की वजह से अभियान नहीं चल पा रहा है लेकिन पुलिसकर्मियों की वापसी के बाद अभियान चलाकर कार्रवाई की जाएगी।