जिला अस्पताल की ऐसी हालत पर गुस्से से लाल हो गए कमिश्नर साहब…!

चंदौली जिले में आये वाराणसी मंडल के मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल ने सोमवार की शाम जिला अस्पताल का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान इमरजेंसी कक्ष, भर्ती वार्ड में स्वास्थ्य व्यवस्था में खामियां मिलने पर नाराजगी जताई। इसके अलावा कोविड-19 के तहत लोगों का थर्मल स्कैनिंग नहीं किए जाने पर भड़क उठे।

इसके बाद जब उन्होंने भोजनालय कक्ष का अवलोकन किया। इसमें मेन्यू निर्धारित नहीं पाया गया। वहीं मरीजों को दिये जाने वाला चावल खराब मिला। उन्होंने चावल, आटा और दाल का सैंपल लेकर जांच कराने का डीएम को आदेशित किया। साथ ही गडबडी  पर कार्रवाई का निर्देश दिया।

बताया जा रहा है कि कमिश्नर सोमवार की शाम जिला अस्पताल स्थित इमरजेंसी कक्ष में पहुचें। इस दौरान कोरोना महामारी को लेकर कोई सुरक्षा व्यवस्था नहीं मिली। मरीजों के लिए लगाया गया गद्दा पुराना और फटा था। चिकित्सक कक्ष में बाइक खड़ी देख दंग रह गए। उन्होंने ओपीडी कक्ष में गंदगी देख नाराजगी जताई और स्वास्थ्यकर्मियों को जमकर फटकार लगाई। इसके बाद अस्पताल के मेन गेट पर थर्मल स्क्रैनिंग की व्यवस्था नहीं किये जाने पर खफा हो गए।

कमिश्नर ने मौके पर ही सीएमओ को हिदायत दिया कि चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों में कोरोना संक्रमण फैला तो इसके जिम्मेदार होंगे। इसके अलावा अन्य वार्ड में पंखा खराब मिला। कई बेड पर चादर नहीं बिछाया गया था। उन्होंने मरीजों से स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी ली।

इस क्रम में भोजनालय कक्ष में निरीक्षण के दौरान मेन्यू नहीं मिला। उन्होंने चावल, आटा, दाल, मसाला, तेल आदि को चेक किया। साथ ही चावल, आटा और दाल की गुणवत्ता में खामी देख कर उसका सैंपल लिया और जांच कराकर कार्रवाई का निर्देश डीएम को दिया। कहा कि यहां स्वास्थ्य व्यवस्था के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। चेताया सुधार नहीं होने पर कार्रवाई तय है।

उन्होंने ब्लड बैंक व जिला अस्पताल के इमरजेंसी कक्ष में पहुचें। इस दौरान कोरोना महामारी को लेकर कोई सुरक्षा व्यवस्था नहीं कि गई थी। मरीजों को देखने के लिए लगाया गया गद्दा पुराना और फटा हुआ मिला।

इस दौरान डीएम नवनीत सिंह चहल, सीएमओ डॉ आरके मिश्रा, डॉ विवेक सिंह रहे।