चंदौली लोकसभा के चुनाव के समय 19 मई को सिकटियां परशुरामपुर मतदान केंद्र पर मतदान के दौरान भाजपा और सपा कार्यकर्ताओं में हुई मारपीट और पत्थरबाजी की घटना ने तूल पकड़ लिया है। रविवार को पुलिस ने तीन नामजद और छह अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी तो सोमवार को दूसरे पक्ष ने जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल से मिलकर अपना पक्ष रखा। अलीनगर थाने में भाजपा विधायक और किसान मोर्चा प्रदेश उपाध्यक्ष के खिलाफ तहरीर दी। थानाध्यक्ष ने जांच के बाद किसी तरह की कार्रवाई करने की बात कही। दोनों पक्षों के बीच तनातनी बरकरार है।

परशुरामपुर में मतदान के दौरान झंडा हटाने को लेकर सपा और भाजपा समर्थकों में मारपीट हो गई थी। मौके पर पहुंचीं भाजपा विधायक साधना सिंह और किसान मोर्चा प्रदेश उपाध्यक्ष राणा प्रताप सिंह ने बीच बचाव का प्रयास किया तो मामला सुलझने की बजाए और बिगड़ गया। एक तरफ से पत्थरबाजी होने लगी और नेता द्वय को भी निशाना बनाया गया। बहरहाल सुरक्षाबलों की सख्ती के बाद उपद्रवी शांत हुए।

 

जिला प्रशासन ने मामले को गंभीरता से लिया और घायलों की तहरीर पर तीन नामजद और छह अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। आरोपितों को पकड़ने के लिए पुलिस ने धरपकड़ भी शुरू कर दी। दो दलों के कार्यकर्ताओं के बीच का मामला होने के चलते घटना ने राजनीतिक रंग ले लिया है।

 

सोमवार को दूसरा पक्ष पहले जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल से मिला और शिकायत दर्ज कराई। इसके बाद अलीनगर थाने में विधायक और किसान मोर्चा प्रदेश उपाध्यक्ष के खिलाफ तहरीर देकर प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की। थानाध्यक्ष अश्वनी चतुर्वेदी ने बताया कि तहरीर प्राप्त हुई है। मामले की निष्पक्ष जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। मामले की गंभीरता के मद्देनजर क्षेत्र में गश्त बढ़ा दी गई है।