धानापुर के विकास के लिए व्यापक रणनीति बना रहे हैं लोग, जानिए इनकी योजना

चंदौली जिले के राष्ट्रीय विद्यार्थी मंच और नमो सेना की संयुक्त बैठक शहीद स्मारक समिति के सभागार में दिन में 11:00 बजे हुई। बैठक में धानापुर विकास मंच को आमंत्रित किया गया था। भाग लेने वालों में धानापुर विकास मंच से महामंत्री वीरेंद्र प्रताप सिंह उपाध्यक्ष डॉ राम अनुज यादव तथा संयोजक गोविंद उपाध्याय भी सम्मिलित रहे ।

संयुक्त बैठक में धानापुर विकास मंच की रूपरेखा प्रस्तुत करते हुए विकास मंच के संयोजक गोविंद उपाध्याय ने बताया कि क्षेत्र की राजनीति और क्षेत्र की आवश्यकता दोनों ही महत्वपूर्ण है, इसीलिए धानापुर विकास मंच राजनीति क्षेत्र से दूर हट कर मात्र क्षेत्र के विकास की बात करता है। विकास के लिए हमें हमेशा शासन से, राज्य सरकार से अपने हक में आवाज उठानी पड़ेगी, चाहे राजनीतिक सत्ता किसी भी दल की हो।

इसीलिए धानापुर विकास मंच ने निर्णय लिया है कि हम किसी भी दल ,राजनीति ,जाति विशेष या फिर व्यक्ति विशेष के प्रभाव में आए बिना हमेशा विकास परक योजनाओं तथा सामयिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए आवाज उठाने काकाम करेंगे । धानापुर का विकास तभी संभव होगा जब धानापुर को केंद्र मानकर धानापुर में तहसील , नगवा चौचकपुर घाट स्थाई पुल, टांडा घाट पर पीपापुल, के माध्यम से विकास परक ढांचा तैयार होगा।

हम शिक्षा के क्षेत्र में आवागमन से व्यावसायिक रूप से और अपने क्षेत्र में रोजगार के द्वारा ही विकास के फलक पर स्थापित हो सकते हैं। राष्ट्रीय विद्यार्थी मंच और नमो सेना के पास युवाओं की जबरदस्त ताकत दिखाई दे रही है, आवश्यकता है इस शक्ति को सही दिशा में समुचित रूप से प्रयोग में लाने की। यही नौजवान विकास की गति तेज करेंगे। विकास के क्रम में आने वाली बाधाओं को दूर करने में अधिक सहायक होंगे। इसके लिए इनको नुक्कड़ सभा जुलूस जन जागरण और राजनेताओं का घेराव कर अपना अभियान तेज करना चाहिए।

नमो सेना के विपिन रस्तोगी जिन्हें बताया कि हमारे लोग शीघ्र ही धानापुर बाजार में प्रभात फेरी नुक्कड़ नाटक सामूहिक जनसंपर्क और हर घर की तरफ से एक व्यक्ति को आंदोलन से जुड़ने के लिए प्रेरित करेगा।

वहीं शैलेश कुमार यादव ने बताया कि हिंगतरगढ़, प्रसहटा सड़क से लेकर बोझवां गद्दोचक, टंडवा तक बरसात और बाढ़ का जमा पानी सहपुर मड़ई और निधुरा तक के बीच में लगभग 500 एकड़ क्षेत्र की उपजाऊ भूमि बाढ़ तो दूर सामान्य बरसात में भी जलमग्न हो जाती है। आवागमन के संसाधनों से कट जाती है। खेती पूर्णतया नष्ट हो जाती है।मात्र रवि की खेती के लिए जमीन मिल पाती है और वह भी मात्र जनवरी के प्रारंभ में। जब भी बुआई होती है मार्च के आखिर तक फसल खराब हो जाती है। इस क्षेत्र के विकास के लिए धानापुर विकास मंच कि हर लड़ाई में युवा वर्ग और क्षेत्र की जनता हस्ताक्षर अभियान चलाते हुए जोशो खरोश से शामिल होगी। हम उचित तरीके से अपना हक लेकर रहेंगे।

वही राष्ट्रीय विद्यार्थी मंच के जनपद सचिव पंकज गुप्ता बताया कि हमारा क्षेत्र शैक्षणिक रूप से भी काफी पीछे है । राजकीय महाविद्यालय में शिक्षण प्रशिक्षण के लिए एक तो प्राध्यापक नहीं है ,और है भी तो वह भी महाविद्यालय में देहाती क्षेत्र में आने में अपनी तौहीन समझते हैं। जिससे हमारे क्षेत्र का विकास और क्षेत्रीय जनता को काफी असुविधा हो रही है। जो बस धानापुर से मिर्जापुर तक जाती थी, उसे पुनः चहनिया से विंध्याचल तक के लिए जरूर चलाया गया परंतु धानापुर क्यों छोड़ दिया गया.. पता नहीं चल पाया। इसके लिए हम लोग क्षेत्रीय विधायक और जिलाधिकारी से मांग करेंगे। आंदोलन में युवाओं की सक्रिय भूमिका होगी तथा हम लोग जुलूस जागरण और जनसभा के माध्यम से अपना अधिकार लेकश्र रहेगें।

सभा की अध्यक्षता कर रहे वीरेंद्र प्रताप का ने कहा कि धानापुर विकास मंच कठिन संघर्ष की दावत के दौर में भी नगवा चौचकपुर घाट पर पीपी का पुल निर्मित कराने में सफल रहा है, परंतु आगे और काम बाकी है हमें उसी स्थल पर अस्थाई पुल की आवश्यकता है। पिछले लोकसभा चुनाव से पूर्व सांसद और विधायक ने कहा था कि शिलान्यास भी हम ही लोग करेंगे और उद्घाटन भी हमें ही करना है। परंतु आज तक उनकी बात का कहीं कोई प्रभाव दिखाई नहीं दिया उल्टे हमारी बस सेवा हमसे छीन ली गई।

कार्यक्रम में राजन उपाध्याय, प्रिंस दुबे, राजन सिंह, अक्षय कुमार यादव, सोनू पांडे, संतोष मोदनवाल, संतोष गुप्ता, अजय केसरी, अजीत प्रताप, अशोक बंद, आरिफ, यादवेंद्र उपाध्याय, राजू मौर्य आदि लोग थे। सभा का संचालन डॉ राम अनुज यादव ने किया।