चंदौली जिले के जिलाधिकारी के काम व पहल को देश में भी सराहना मिलने लगी है। जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल को देश के 50 लोकप्रिय जिलाधिकारियों में गिना गया है।

पत्रिका फेम इंडिया की लोकप्रिय डीएम की सूची में इनका नाम भी शामिल किया गया है। पत्रिका ने डीएम नवनीत सिंह चहल को व्यवहारकुशल का तमगा भी प्रदान किया है।

कहा जा रहै है कि दो वर्ष और दो माह के कार्यकाल में अब तक उनके नेतृत्व में जिले ने कई उपलब्धियां हासिल की हैं। स्वास्थ्य, पोषण, रोजगार और मनरेगा के क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रगति हुई। इस पर केंद्र सरकार से जिले के विकास के लिए 10 करोड़ रुपये इनाम भी मिल चुका है।

बता दें कि नीति आयोग की रैंकिग में देश के 108 अति पिछड़े जिलों में अलग-अलग समयांतराल में पहले और दूसरे स्थान पर रहा है।

कोरोना संक्रमण ने प्रदेश में सबसे अंत में चंदौली में दस्तक दी। स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने मास्क बनाने में प्रदेश में पांचवां स्थान हासिल किया। नीति आयोग ने जनवरी 2018 में चंदौली को देश के 108 अति पिछड़े जिलों में शामिल किया था।

इसके पहले अमरोहा में तैनात रहे तेज आइएएस नवनीत सिंह चहल की जिलाधिकारी के रूप में चंदौली में दूसरी पोस्टिंग हुई। उन्होंने अप्रैल 2018 में कार्यभार संभाला। शुरूआत में तो जिले की स्थिति काफी खराब रही। आयोग की रैंकिंग में जनपद पिछड़ा रहा, लेकिन 2019 में रैंकिग में लगातार उछाल आया। अगस्त 2019 से दिसंबर तक पांच माह में जिला 93वें से पहले पायदान पर पहुंच गया। खासतौर से स्वास्थ्य और पोषण, शिक्षा, मूलभूत सुविधाओं व कौशल विकास मिशन के क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रगति की बदौलत यह मुकाम हासिल हुआ।

इसके अलावा वैश्विक महामारी के दौर में मनरेगा के तहत श्रमिकों को रोजगार दिलाने में जिला प्रदेश में तीसरे स्थान पर रहा। एक दिन में 4950 मजदूरों की संख्या बढ़ी। जिलाधिकारी ने इसे टीम वर्क का नतीजा बताया। बोले, प्रदेश की सीमा पर स्थित जनपद की चर्चा पहले बहुत कम होती थी, लेकिन नीति आयोग की ओर से अति पिछड़ा घोषित किए जाने के बाद विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति हुई।

इसकी बदौलत आयोग की रैंकिग में जिले का क्रमश: पहला और दूसरा स्थान रहा। विभागीय अधिकारी व कर्मचारी ईमानदारी के साथ दायित्वों का निर्वहन कर रहे हैं। डीएम ने कहा कि फलासक्ति रहित कर्म ही किसी अच्छे फल का सुखद अहसास कराता है जो आज चंदौली की जनता महसूस कर रही है।

कहा जाता है कि जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल अपने शांत व मृदुभाषी स्वभाव के चलते जनता में काफी लोकप्रिय हैं। फरियादियों की समस्याओं को ध्यान से सुनना और तत्काल संबंधित अधिकारी को निर्देशित कर निस्तारण कराना उनकी कार्यप्रणाली में शामिल हो चुका है। बैठकों में भी अधिकारियों को इसके बाबत हिदायत देते रहते हैं ताकि आमजन को किसी तरह की समस्या का सामना न करना पड़े।