चंदौली जिले में कोरोना का कहर प्रवासियों के बाद जिले के दो विभाग के कार्यालय में जा पहुँचा। जिसमें पंचायती राज व स्वास्थ्य विभाग के लोगों को कोरोना ने अपने आगोश ले लिया है। जिससे जिले में खलबली मच गई है ।वही पंचायती राज कार्यालय को पूरी तरह से सील कर लोगों की सैम्पलिंग की जा रही है ।

जानकारी के अनुसार कल कोविड-19 की जांच रिपोर्ट में आयी कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट में जिला पंचायती राज अधिकारी सहित उनके विभाग से संबंधित तीन लोग कोरोना से ग्रसित हैं । जिसके कारण जिला पंचायती राज कार्यालय को पूरी तरह से सील कर उनके कॉन्टैक्ट में आए हुए लोगों की सैंपलिंग की जा रही है।

स्वास्थ्य विभाग में ब्लड बैंक के एक लैब टेक्नीशियन पहले से ही पॉजिटिव थे ।उसे उसके बाद 2 लैब टेक्नीशियन की रिपोर्ट और आने के बाद स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी दहशत में नौकरी कर रहे हैं ।

वहीं कर्मचारियों का दबे स्वर में कहना है कि जब कोरोना पॉजिटिव आने वाले स्थल को हॉटस्पॉट घोषित किया जाता है तो जिला अस्पताल को यहां हॉटस्पॉट क्यों नहीं बनाया जा रहा है । क्या यहाँ के सारे कर्मचारियों व अधिकारियों को पॉजिटिव आने के लिए इंतजार किया जा रहा है। इस जगह को किस वजह से हॉटस्पॉट नहीं बनाया जा रहा है ।

इस संबंध में अधिकारियों ने आगे के आदेशों की बात कह कर चुप्पी साधे हुए हैं और अभी भी ब्लड बैंक से सटे हुए हॉस्पिटलों में ज्यों का त्यों कार्य सुचारू रूप से संचालित किया जा रहा है।