राजनीति में कब क्या हो सकता है इसकी कल्पना करना किसी आम आदमी के बस की बात नहीं। कभी कभी नेताओं की हरत पर आपको भरोसा भी नही होता है। पर ऐसा संभव होता अक्सर दिखता है। जिस बसपा-सपा के गठबंधन को भाजपा नेता उल्टा सीधा बोलते हैं उनके नेताओं के साथ खड़े होने व उनका समर्थन लेने से परहेज नहीं करते हैं।

इसका ताजा प्रमाण सैदराजा विधानसभा में एक दूसरे के खिलाफ जहर उगलने वाले दो दिग्गज और प्रतिद्वंदी रहे पूर्व एमएलसी विनीत सिंह व भाजपा विधायक सुशील सिंह ने मंच पर एकजुट होते हुए देखे गए। दोनों एक दूसरे को देखकर हंस रहे थे। इस अवसर पर दोनों ने मिलकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडे को जीताने की अपील की और अपने गिले-शिकवे को दूर कर लिए।

14 मई की देर शाम बेटे के जन्मदिन के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान पूर्व एमएलसी विनीत सिंह ने चोलापुर के आवास गोला में सभी हस्तियों को आमंत्रित किया था, जिसमें प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडे और भाजपा विधायक सुशील सिंह भी शामिल हुए।

पहले इनका स्वागत करके अपने घर में ले आए और फिर अपने समर्थकों से अपील करते हुए पूर्व एमएलसी ने कहा कि अपने राजनीतिक नफा नुकसान को छोड़कर उन्होंने गुरुजी को समर्थन कर रहा हूं। गठबंधन जातिगत आंकड़ों के आधार पर 70% वोटों के बल पर जीत का दावा कर रहा है उसे अब हम लोग मिलकर 40% वोट मिलने को मजबूर कर देंगे। वर्तमान सांसद को पुनः सांसद बनाएंगे ।

इस मौके पर सुशील सिंह ने भी जीत का दावा करते हुए एमएलसी के समर्थन पर खुशी जाहिर करते हुए आसान जीत की बात कही।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष व वर्तमान प्रत्याशी महेंद्र नाथ पांडेय ने कहा कि जो हमारे दुर्दिन में साथ देता है, मेरा इतिहास रहा है कि मैं उसका कभी दुर्दिन नहीं आने देता हूं।

इस कार्यक्रम में लोकसभा के पांचों विधानसभा से हजारों की संख्या में हिंदू, मुस्लिम, दलित सहित विनीत सिंह के समर्थक उपस्थित रहे। हालांकि विनीत सिंह के समर्थन के बाद राजनीतिक गलियारों में भाजपा प्रत्याशी के जीतने की चर्चाएं जोरों पर हिलोरे ले रही हैं।