नौगढ़ में कोरोना की जंग जीत चुके अधीक्षक ने पत्नी के साथ लगवाया कोरोना का पहला टीका

चंदौली जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नौगढ़ पर चिकित्सा अधीक्षक डॉ अवधेश पटेल ने अपनी पत्नी राजलक्ष्मी सिंह के साथ कोरोना वैक्सीन का पहला टीका लगवाकर वायरस के अंत की शुरूआत की है। टीका लगने बेहद खुश नजर आए।

उन्होंने चंदौली समाचार को बताया कि यह पल गर्व और खुशी का है। इससे लोगों के मन में वैक्सीन के बारे में चल रही झिझक दूर होगी। आत्मविश्वास बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है। डरने की जरूरत नहीं है। अब हम लोग बेझिझक लोगों की सेवा कर सकेंगे।

अधीक्षक डॉ. अवधेश पटेल की देखरेख में टीकाकरण अभियानक की शुरुआत के दौरान 100 लोगों में से 80 को टीका लगाया गया। टीकाकरण टीम में सुशीला देवी, सारिका शाह शामिल रहीं।

पहला टीका कोविड-19 का जंग जीत चुके अधीक्षक अवधेश पटेल ने लगवाया। अगस्त माह में वह कोरोना पॉजिटिव हुए थे। बताया कि टीके के प्रति कोई भय या आशंका कभी नहीं रही। मन में पहले से था कि अगर यह मौका मिला तो पीछे नहीं हटूंगा। संयोगवश यह मौका मिल भी गया। चूंकि मैं चिकित्सक हूं इसलिए पहले से जानता था कि हर टीके का थोड़ा बहुत प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है, जिसके लिए तैयार था। हालांकि कोविड के टीके का कोई प्रतिकूल प्रभाव देखने को नहीं मिला।

अधीक्षक की धर्मपत्नी राजलक्ष्मी सिंह ने बताया कि यह मेरे लिए आनंद का क्षण था। टीका लगने के बाद सामान्य महसूस कर रही हूं। कहीं कोई दर्द या घबराहट नहीं है। सूची में मेरा नाम है, यह जानकार मुझे खुशी हुई। रात में बच्चों को बताया था। कोरोना का टीका लगेगा, बीमारी से पहले डर लग रहा था। अब टीकाकरण के बाद डर समाप्त हो गया। मैं दूसरा डोज भी लगवाऊंगी और टीका लगवाने के लिए दूसरों को प्रोत्साहित करूंगी।