कांसेप्ट फोटो

चंदौली जिले के कंदवा थाना क्षेत्र के चारी गांव के कृष्ण अवतार कनौजिया के घर का मंगलवार को जिस किसी ने भी मंजर देखा उसकी आंखें नम हो गईं। परिवार के सदस्यों का करुण क्रंदन सुन गांव के लोगों का दिल दहल उठा। जिस घर में सोमवार तक विवाह के गीत गाए जा रहे थे आज वहां मातमी चित्कार गूंज रही है।

बताया जा रहा है कि कृष्ण अवतार के छोटे भाई संतोष कनौजिया समेत परिवार के चार लोगों की सोमवार की रात प्रतापगढ़ के समीप सड़क हादसे में मौत हो गई। वहीं तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। जिनका प्रतापगढ़ के ही अस्पताल में इलाज चल रहा है। हादसा कार चला रहे संतोष के बेटे सुजीत को झपकी आने से हुई।

 

चारी गांव निवासी संतोष कन्नौजिया तीन भाइयों में सबसे छोटे थे। वह सपरिवार नई दिल्ली में रहकर एक निजी कंपनी में कार्य करते थें। दो भाइयों का परिवार चारी गांव में ही रहता है। बड़े भाई कृष्ण अवतार की बेटी सुमन की 23 मई को भभुआ बिहार के डबरिया गांव के एक युवक से तय हुई है। शादी में शरीक होने संतोष कन्नौजिया अपने परिवार के सात लोगों के साथ कार से गांव आ रहे थे। कार उनका बड़ा बेटा 22 वर्षीय सुजीत कुमार चला रहा था। रास्ते में सोमवार की रात लगभग 11 बजे प्रतापगढ़ के लालगंज कोतवाली के रानीगंज कैथौला पुलिस चौकी के समीप सड़क किनारे खड़े ट्रक में कार घुस गई। हादसे में सुजीत कुमार, उसकी पत्नी 19 वर्षीया रानी और मां 42 वर्षीया आशा देवी की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

 

वहीं कार में सवार 46 वर्षीय संतोष कन्नौजिया ने मंगलवार को इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया। छोटा पुत्र 18 वर्षीय अजीत, दामाद 26 वर्षीय सोनू उर्फ रजनीकांत और रिश्तेदार 30 वर्षीय राकेश गंभीर रूप से घायल हो गए। गंभीर रूप से घायल सोनू उर्फ रजनीकांत की को ट्रामा सेंटर वाराणसी रेफर कर दिया गया। परिवार पुरुष सदस्य आनन-फानन में प्रतापगढ़ के लिए रवाना हो गए हैं।