दलाल 1000 से ₹500 में जारी करा रहे हैं शिक्षकों के फर्जी मेडिकल सर्टिफिकेट

कांसेप्ट फोटो

चंदौली जिले में तैनात होने वाले 268 शिक्षकों के मेडिकल बनाने के दौरान दलालों की चांदी काट रही है। बिना चेकअप के ही पैसे के बल पर जिला अस्पताल में काम करने वाले या दलाल लोग अपने परिचय का फायदा उठाकर फर्जी तरीके से मेडिकल बनाने में जुटे हुए हैं। मामला आला अधिकारियों के संज्ञान में भी है।

बताते चलें कि योगी सरकार द्वारा भ्रष्टाचार रोकने के लिए पूरे प्रदेश में 31,277 शिक्षकों को नियुक्ति पत्र जारी कर दिया गया है। जिसमें नौनिहाल शिक्षकों को जॉइनिंग के लिए सीएमओ स्तर से मेडिकल बनाने के बाद जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के यहां जॉइनिंग करना है, लेकिन जिला अस्पताल में मेडिकल बनाने के लिए सक्रिय दलालों द्वारा सब कुछ सही कर मेडिकल बनाने के लिए 500 से 1000 रुपए की धन उगाही की जा रही है।

जांच रिपोर्ट किए बिना उच्चाधिकारियों के पास मेडिकल प्रक्रिया पूर्ण करने के लिए अभ्यर्थी के फार्म भेजे जा रहे हैं। जिसमें ऐसे कार्य करने वालों के फर्जी रिपोर्ट के लगभग 40 से 50 जांच रिपोर्ट पाई गई।

इस संबंध में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ डीके सिंह ने बताया कि ऐसे कुल लगभग 40 से 50 अभ्यर्थी पाए गए। जिनके मेडिकल चेकअप किए बिना मेडिकल सर्टिफिकेट बनाने के लिए आया था। फिलहाल उन्हें रोक दिया गया है।

अब सारे लोगों के मेडिकल चेकअप कराने के बाद ही सर्टिफिकेट जारी किया जाएगा ।