कांसेप्ट फोटो

उत्तर प्रदेश की राज्य सरकार लड़कियों की पढ़ाई को बढ़ावा देने के लिए लगभग 10 पिछड़े जिलों में डायट में गर्ल्स हॉस्टल खोलेगी। वहीं पांच जिलों में डायट खोले जाएंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने इस पर सैद्धांतिक सहमति दे दी है। इसमें सोनभद्र और चंदौली जिले शामिल हैं।

जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) में डीएलएड (बीटीसी) का प्रशिक्षण दिया जाता है लेकिन कई जिलों में ये दूरदराज में स्थित हैं। लिहाजा लड़कियां इनमें प्रशिक्षण न लेकर निजी संस्थानों में प्रवेश ले लेती हैं, क्योंकि यहां हॉस्टल की सुविधा ज्यादातर जगह नहीं है।

ऐसे में लड़कियों को निजी कॉलेजों में प्रवेश लेना पड़ता है। डायट और निजी कॉलेजों की फीस में दोगुने से ज्यादा अंतर होता है। वहीं हॉस्टल का खर्च भी अच्छा खासा होता है। अब राज्य सरकार सिद्धार्थनगर, बहराइच, बलरामपुर, चंदौली, चित्रकूट, फतेहपुर, सोनभद्र आदि जिलों में हॉस्टल खोलने की तैयारी कर रही है।

वहीं पांच नये जिलों में भी डायट की स्थापना होगी। अमेठी, गाजियाबाद, सम्भल, कासगंज व शामली में अभी तक डायट नहीं है। इनकी वजह से यहां के युवाओं को डीएलएड करने के लिए अपने पास के जिलों में जाना पड़ता है।