बंद कमरे में जांच रिपोर्ट तैयार करने से गांव के लोग नाराज, जांच में लीपापोती पर उग्र आंदोलन की तैयारी

चंदौली जिला की शहाबगंज विकासखंड अंतर्गत जेंगुरी गांव में गुरुवार को जांच करने पहुंचे जिला दिव्यांग जन सशक्तिकरण अधिकारी राज बहादुर सिंह को ग्रामीणों का विरोध का झेलना पड़ा। गांव के महेंद्र प्रताप सिंह व लक्ष्मण सिंह ने पिछले दिनों मुख्य विकास अधिकारी को शिकायती प्रार्थना पत्र देकर विकास कार्यों की जांच कराने की मांग की थी । जिस पर जिला दिव्यांग जन सशक्तिकरण अधिकारी राज बहादुर सिंह गांव में पहुंचे थे ।

आरोप है कि जांच करने पहुंचे अधिकारी विद्यालय के बंद कमरे में सेक्रेटरी के साथ मिलकर रिपोर्ट तैयार करने लगे। यह देख ग्रामीण उग्र हो गएऔर दर्जनों की संख्या में एकत्रित होकर जांच में लीपापोती का आरोप लगाते हुए नारेबाजी करने लगे।

ग्रामीणों ने सूचना अधिकार के तहत गांव के विकास का लेखा-जोखा लिया था, जिसमें विकास कार्य में व्यापक धांधली किए जाने का आरोप लगाते हुए जांच कराने की मांग की थी। सितंबर माह में मुख्य विकास अधिकारी ने जिला दिव्यांगजन सशक्तिकरण अधिकारी को जांच अधिकारी नामित किया था।

जांच अधिकारी ने बताया कि जांच पूरी कर ली गई है। रिपोर्ट से मुख्य विकास अधिकारी को अवगत कराया जाएगा।

इस दौरान रामजी, राजाराम, हनुमान, राम मूरत, विजयमल सिंह, महेंद्र सिंह, लक्ष्मण सिंह,सहित दर्जनों ग्रामीण उपस्थित थे।