50 स्वास्थ्यकर्मियों के आवास खाली करने पर ही CM के ड्रीम प्रोजेक्ट की होंगी शुरुआत

चंदौली जिले में मेडिकल कॉलेज के निर्माण हेतु जिला संयुक्त चिकित्सालय के कर्मचारियों एवं अधिकारियों के आवास गिराने के लिए मिली नोटिस पर अधिकार कर्मचारियों की फजीहत और बढ़ गयी है । कर्मचारियों के परिजनों ने अधिकारियों से गुहार लगाई है ।

बताते चलें कि पंडित कमलापति त्रिपाठी संयुक्त जिला चिकित्सालय के परिसर में मेडिकल कॉलेज की 300 बेड का हॉस्पिटल बनाने के लिए परिसर में बने कर्मचारी एवं अधिकारियों के आवास को अधिग्रहित किया गया है। जिसे ध्वस्त कर उस स्थान पर हॉस्पिटल बनाने का कार्य किया जाएगा। जिसके लिए मुख्य चिकित्सा अधीक्षक द्वारा नोटिस भी दे दी गई है । इससे आवासों में रहने वाले 50 परिवार के लोगों को फजीहत का सामना करना पड़ रहा है। वहीं इन्हें किराए का मकान ना मिलने पर परिजनों द्वारा अधिकारियों से वैकल्पिक व्यवस्था की गुहार लगाई गई है ।

वही इस संबंध में मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ भूपेंद्र द्विवेदी ने बताया कि यह प्रोजेक्ट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ड्रीम प्रोजेक्ट में है। जिसके कारण कर्मचारियों को आवास खाली करने के बाद ही प्रोजेक्ट की शुरुआत हो पायेगी । इसलिए इन्हें आवास खाली करने के लिए नोटिस जारी की गयी है । इनके आवास की वैकल्पिक व्यवस्था ना होने की जानकारी भी उच्च अधिकारियों को दे दी गई है।