मानव सेवा केंद्र पर गरीबों का निशुल्क उपचार करते थे रमाकांत कुशवाहा

चंदौली जिले के तहसील नौगढ़ में थाना क्षेत्र के लेड़हा गांव के समीप बुधवार को पूर्वाहन अज्ञात भारी वाहन ने चकिया से आ रहे बाइक सवार होम्योपैथिक के डॉक्टर को दोपहर में जोरदार टक्कर मार दी। जिससे उनकी घटनास्थल पर ही दर्दनाक मौत हो गई। बाइक सवार की पहचान शहाबगंज के मनकपड़ा गांव के डॉ. रमाकांत कुशवाहा के रूप में हुई है। होम्योपैथ डॉक्टर की लाश लगभग आधे घंटे तक सड़क पर पड़ी रही। वाहन के संबंध में फिलहाल पता नहीं चल सका है। घटना को अंजाम देकर वह भाग खड़ा हुआ।

आपको बता दें कि कस्बा नौगढ़ स्थित मानव सेवा केंद्र पर होम्योपैथिक चिकित्सक डॉ रमाकांत कुशवाहा वर्ष 1996 से नौगढ़ क्षेत्र के गरीबों को निशुल्क इलाज करते थे। सरल मन हंसमुख और मिलनसार व्यक्तित्व के धनी रमाकांत की मौत की सूचना पर संस्थान में शोक का माहौल छा गया। संस्थान में 2 मिनट का मौन रखकर संजीव श्रीवास्तव, मंगल देव सिंह, रमेश मौर्य ,मिस सुधा समेत अन्य कार्यकर्ताओं ने श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए मृत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना किया।

घटना के बाद पुलिस ने आरोपी की तलाश शुरू कर दी है। वहीं मृतक के शव को सड़क से हटवाकर थाना प्रभारी नौगढ़ राम उजागीर ने जिला अस्पताल भेज दियाऔर उनके परिजनों को सूचना दिया गया । जानकारी होते ही मानव सेवा केंद्र के डायरेक्टर जगत नारायण सिंह अपने स्टाफ के साथ पोस्टमार्टम कराने हेतु जिला हॉस्पिटल पहुंचे।

नौगढ में हादसे के बाद से क्षेत्र में सन्नाटा पसरा हुआ है। डॉ. रमाकांत पांडे (64) नौगढ़ में मानव सेवा केंद्र में होम्योपैथिक चिकित्सक के पद पर तैनात थे और प्रतिदिन अपनी बाइक से अपने गांव मनकपड़ा से आया जाया करते थे।