Cheating his wife, young men chatting with his mistress while his wife sleeps

कहते हैं कि तकनीक ने जहां सहूलियत दी हैं, वहीं समस्याएं भी दी हैं। टेक्नोलॉजी और सोशल मीडिया के बढ़ते इस्तेमाल ने रिश्तों के बीच शक की दीवार खड़ी कर दी है। एक हालिया अध्ययन के मुताबिक प्रत्येक पांच में से एक पुरुष पत्नी का फोन चेक करने के लिए उसके सोने का इंतजार करता है।

ब्रिटेन में एक तिहाई पुरुषों ने स्वीकारा कि वह अपने साथी के स्मार्टफोन और सोशल मीडिया अकाउंट की जासूसी करते हैं। वहीं दस में से चार लोगों ने यह माना कि वह अपने साथी के फोन की सप्ताह में एक बार जासूसी जरूर करते हैं।

बन रही तलाक की वजह 

अध्ययन के परिणामों को लेकर वकील हॉडगे जोन्स और ऐलेन का कहना है कि फोन के जरिए मिलने वाली जानकारियों को तलाक के लिए उदाहरण बनाया जा रहा है। वहीं साउथ वेल्स विश्वविद्यालय से जुड़े डॉ. मार्टिन ग्रैफ का कहना है कि टेक्नोलॉजी का मतलब है सोशल मीडिया ने एक ऐसी दुनिया गढ़ दी है, जहां लोग अपने पार्टनर को खुद के बारे में जासूसी करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। इसके अलावा मोबाइल डेटिंग एप ने भी असुरक्षा की भावना को बढ़ा दिया है।

पोस्ट लाइक करना मतलब ‘धोखा’

ब्रिटेन में 2,000 लोगों पर आधारित सर्वे में पत्नी की जासूसी करने वाले आधे लोगों ने पाया कि उन्हें रिश्ते में धोखा मिला है, जिसकी बाद उन्होंने जासूसी की। वहीं 45 प्रतिशत पुरुषों ने रिश्ते को खत्म ही कर डाला। हालांकि धोखे को किस तरह परिभाषित किया जाए, इस पर अधिकांश लोगों की सहमति नहीं बन सकी। मगर 10 में से 6 लोगों ने माना कि साथी का अन्य किसी के साथ रिश्ता रखना धोखा है। कुछ लोगों ने साथी द्वारा किसी अन्य पुरुष की सोशल मीडिया पोस्ट लाइक करने को भी धोखे की श्रेणी में रखा। 

फोन चैक करना ठीक नहीं

रिलेशनशिप काउंसलर डेनिस नोल्स का कहना है कि हमारी जिंदगी का ज्यादातर हिस्सा ऑनलाइन बीत रहा है, ऐसे में पार्टनर का फोन,और सोशल मीडिया अकाउंट बिना इजाजत के चैक करना सामान्य बात है। हालांकि यह ठीक नहीं है।