पकड़ा गया मगरमच्छ

चंदौली जिले के शहाबगंज में गांधीनगर के पास जनकपुर माइनर में बुधवार की दोपहर मगरमच्छ दिखाई दिया। इसके बाद लोगों ने वन विभाग को सूचना दी। वन विभाग की टीम के कड़ी मशक्कत के बाद मगरमच्छ को माइनर से बाहर निकाला गया। घायल होने की स्थिति में मगरमच्छ का इलाज राजकीय पशु चिकित्सालय में कराया गया।

गांधीनगर नहर में मछुआरे मछली मारने के लिए कटिया लगाए थे। कटिया को मगरमच्छ ने निवाला बना लिया। मुंह में कटिया लेकर भाग गया और धागा टूट गया। इससे वह जख्मी हो गया। आशंका जताई जा रही है कि जख्मी होने से परेशान मगरमच्छ नहर के समीप सूखे पड़े माइनर में जा पहुंचा। माइनर में मगरमच्छ होने की सूचना जंगल में आग के समान फैल गई। देखते ही देखते मौके पर भारी भीड़ जुट गयी।

वन क्षेत्राधिकारी चकिया इकबाल बहादुर सिंह ,फारेस्ट गार्ड राजेंद्र प्रसाद शास्त्री, वन दारोगा खैरुल बशर समेत अन्य वनकर्मी मौके पर पहुंच गए। ग्रामीणों की मदद से मगरमच्छ को माइनर से बाहर निकाला गया।

फार्मासिस्ट दयानंद सिंह ने जख्मी मगरमच्छ का इलाज किया। मगरमच्छ के मुंह से कंटिया निकाला गया। रेंजर ने बताया कि मगरमच्छ को लतीफशाह बीयर में सुरक्षित छोड़ दिया गया।