सुभाष चन्द्र बोस की 125 वीं जयंती पर निकाला गया जुलूस

चन्दौली जिले में अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति और अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय आवाहन पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस के 125 वी जयंती को आजाद हिंद किसान दिवस के रूप में मनाया गया ।

बताते चले कि किसान महासभा के कार्यकर्ताओं ने स्थानीय भाकपा माले कार्यालय से जुलूस निकालकर चहनिया बाजार का भ्रमण किया । जुलूस में नेताजी सुभाष चंद्र बोस अमर रहे, किसान विरोधी तीनों कृषि कानूनों को रद्द करो, अदानी अंबानी का कंपनी राज नहीं चलेगा, दिल्ली किसान आंदोलन को सरकारी संरक्षण में हिंसा में बदलने की साजिश में नही चलेगी, किसान महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष कामरेड रूलदूसिंह के ऊपर हमला करने वाले दिल्ली पुलिस के अधिकारियों कर्मचारियों पर कानूनी कार्रवाई करो के नारे के साथ शहीद-ए-आजम भगत सिंह चौक पर सभा में तब्दील हो गया ।

इस दौरान सभा को संबोधित करते हुए अखिल भारतीय किसान महासभा के जिला अध्यक्ष अमृत श्रवण कुशवाहा ने कहा कि किसानों को अपने अधिकार के लिए संगठित होकर संघर्ष करने की जरूरत है तभी उनका हक अधिकार मिल सकता है जरूरत हो तो संयुक्त मोर्चा भी बनाने की जरूरत है ताकि अपने आंदोलन को तेज गति से आगे बढ़ाया जा सके ।

उन्होंने कहा कि नेता जी ने हिंदू महासभा को भगवा वस्त्र पहनकर साधु और सन्यासियों को वोट बनाने के काम में लगा दिए हैं और हम हिंदू लोग सम्मान में सर झुका लेते हैं लेकिन यह भगवा धारी धर्म का चोला ओढ़कर नफरत का बीज बो करके हिंसा करते हुए हिंदू राष्ट्र बनाने का सपना देखते हैं । ऐसे लोगों से हम सभी देशवासियों को सावधान रहना होगा ।

दिल्ली में चल रहा है किसान आंदोलन जिसकी अगुवाई संयुक्त किसान मोर्चा और अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति कर रहा है के नेता कामरेड रुलदु सिंह जैन के ऊपर दिल्ली पुलिस ने सरकार और किसानों के वार्ता में जा रहे थे हमला किया यह सब केंद्र सरकार के साजिश से हो रहा है अखिल भारतीय किसान महासभा इसकी पुरजोर निंदा करता है और इस घटना में शामिल दिल्ली पुलिस के अधिकारियों कर्मचारियों के ऊपर कानूनी कार्रवाई की मांग करता है ।

इस मौके पर जुलूस और सभा में अरविंद यादव, बबलू यादव ,धर्मेंद्र मौर्य ,राजेश मौर्य, जय सिंह कुशवाहा ,चंद्रभान मौर्य, कृष्णानंद मोर, हरिशंकर विश्वकर्मा, रामाश्रय प्रसाद गौड़ ,अनिल यादव, आदि लोग शामिल रहे अध्यक्षता हरिनारायण मोर एवं संचालन श्रवणकुशवाहा ने किया ।