नवरात्र के सातवें दिन मां के सातवें स्वरूप कालरात्रि देवी की हुई पूजा

चंदौली जिले में चैत्र नवरात्र के सातवें दिन सोमवार को माता के सातवें स्वरूप कालरात्रि की पूजा अर्चना हुई। श्रद्धालुओं ने मां काली की पूजा अर्चना कर कोरोना की वजह से उत्पन्न भय के माहौल से अभय की कामना की। प्रदेश में रविवार को साप्ताहिक बंदी की वजह से भक्त देवी मंदिरों पर नहीं पहुंच पाए थे। सोमवार को बाजार खुल गए। ऐसे में भक्त भी मंदिरों पर पहुंचे और माता रानी का दर्शन कर निहाल हुए।

पीडीडीयू नगर के कैलाशपुरी, नई बस्ती, रविनगर, जीटी रोड, शाहकुटी, न्यू महाल, काली महाल, गल्ला मंडी, एलबीएस कटरा, चतुर्भुजपुर, अलीनगर, परशुरामपुर, पथरा, पराहुपुर, लाठ नंबर एक, लाठ नंबर दो आदि नगरीय इलाकों के साथ रेलवे के आरपीएफ कालोनी, गया कालोनी, डीजल कालोनी, मानसनगर सहित अन्य कालोनियों में स्थित देवी मंदिरों पर सोमवार की सुबह भक्तों की भीड़ रही।

नगर के जीटी रोड स्थित प्राचीन मां काली मंदिर में भक्तों ने फूल, फल, धूप, दीप, नैवेद्य अर्पित कर अभीष्ट की कामना की। शाम के वक्त महिलाएं मंदिरों में पहुंचीं और माता के समक्ष अखंड दीप प्रज्ज्वलित कर ढोल, मजीरे, हारमोनियम, झाल बजाकर देवी गीत गाए। घरों में भी माता के सातवें स्वरूप काली की पूजा अर्चना की गई।

पुरोहितों ने दुर्गा सप्तशती का पाठ किया। वहीं घर के व्रतियों ने भी दुर्गा चालीसा, विंध्यवासिनी चालीसा, दुर्गा महात्म्य आदि का पाठ कर अभीष्ट की कामना की। इस दौरान भक्तों ने कोरोना से जल्दी से मुक्ति दिलाने की प्रार्थना की। घरों में शंख, घंट की ध्वनि से माहौल भक्तिमय बना रहा।