चंदौली जिले की मुगलसराय तहसील में जमीन मापी के लिए पांच हजार रुपये की रिश्वत लिए जाने पर कानूनगो को भ्रष्टाचार निवारण संगठन वाराणसी इकाई की टीम ने गुरुवार को रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद अलीनगर थाने में टीम मुकदमा पंजीकृत कराकर अगली कार्रवाई में जुट गई।

इस बाबत जानकारी देते हुए विजिलेंस वाराणसी के उपाधीक्षक अरविंद सिंह ने बताया कि थाना क्षेत्र के चन्दरखा गांव निवासी मुहम्मद असलम ने बीते 24 जून को सतर्कता विभाग वाराणसी को प्रार्थना पत्र देकर शिकायत किया कि एसडीएम पीडीडीयू नगर के बीते 13 दिसम्बर के आदेश के बावजूद कानूनगो विष्णु गुप्ता जमीन की पैमाईश के लिए 20 हजार रुपए की मांग किए। बाद में दस हजार रुपए पर मामला तय हुआ। जिसके लिए पांच हजार रुपए शुक्रवार को देने की बात तय हुई।

सतर्कता विभाग की टीम जिलाधिकारी द्वारा नामित दो सरकारी गवाह बीईओ सदर विजय प्रकाश यादव व जिला अर्थ एवं सांख्यिकी अधिकारी अरुण यादव सहित शिकायतकर्ता के साथ तय समय पर सुबह 11 बजकर 40 मिनट पर तहसील पहुंची। जहां शिकायतकर्ता ने केमिकल लगे पांच हजार रुपए कानूनगो को दिया। इसी बीच सतर्कता टीम ने कानूनगो को घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया।

आरोपित कानूनगो के खिलाफ अलीनगर थाने में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 7 के तहत मुकदमा पंजीकृत कराया गया। गिरफ्तार करने वाली टीम में निरीक्षक महेंद्र वर्मा, अखिलेश राय, देवेंद्र सिंह, हरिराम चौधरी, अखिलेश पांडेय, राजीव मोहन सिंह, पृथ्वीराज सिंह, एम चंद्रप्रकाश आदि शामिल रहे।

कानूनगो का होगा निलंबन
मुगलसराय तहसील में विजिलेंस वाराणसी की टीम द्वारा रंगेहाथ घूस लेते पकड़े जाने वाले कानूनगो का निलंबन होगा। इस सम्बंध में जानकारी देते हुए एसडीएम कुमार हर्ष ने बताया कि सतर्कता विभाग की जांच रिपोर्ट आने के बाद निलंबन की कार्रवाई की जाएगी।