आर्थिक तंगी और पारिवारिक तनाव ने ले ली करीम की जान, फांसी पर लटकती मिली लाश

चंदौली जिले में पारिवारिक तनाव और आर्थिक तंगी से परेशान 45 वर्षीय बाइक मिस्त्री ने बुधवार को घर में फांसी लगाकर आत्म हत्या कर लिया। घटना की सूचना मिलते ही कोतवाली पुलिस शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये जिला अस्पताल भेज दिया। वही घटना के बाद परिजनों में कोहराम मचा गया।


सदर कोतवाली के राउतपुर गांव निवासी जलाऊ अहमद के तीन पुत्रो में करीम की बीस वर्ष पूर्व भिख्मपुर गांव निवासी अब्दुल हमीद के पुत्री अख्तरी बेगम से निकाह हुआ था। जिससे दो पुत्री शाहिन व नाजिया और एक पुत्र अरमान है। करीम ईटवा गांव में बाइक मरम्मत की दुकान खोलकर परिवार की परवरिश करता था। अप्रैल वर्ष 2018 में करीम ने ओरवा गांव निवासी स्व. इस्लाम की पुत्री जलसा से दूसरा निकाह कर लिया। वही रहने लगा।दो पत्नियों के खर्च से परेशान करीम सुबह पेट में दर्द होने का बहाना बना कर पत्नी जलसा को दवा लेने के लिये डाक्टर के पास भेजा दिया। पत्नी के घर से जाते ही करीम ने अंदर से दरवाजा बंद कर करी में फांसी लगाकर झूल गया। दवा लेकर घर पहुंची महिला ने पति का शव लटकते देख चिल्लाने लगी। आसपास ग्रामीणों की मदद से युवक को फांसी के फंदे से उताकर पुलिस को सूचित किया।

मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पीएम के लिये भेज दिया। इस बाबत कस्बा प्रभारी भूपेश चन्द्र कुशवाहा ने बताया कि प्रथम दृष्टया पारिवारिक तनाव के कारण फांसी लगाने की बात सामने आयी है। मामले की जांच की जा रही है।


सूत्रों की माने तो करीम मोटरसाइकिल बनाने का काम करता था और सूदखोरों से पैसा लेकर दुकान चलाता था। दुकान की माली हालत खराब होने और सूदखोरों का दबाव बढ़ने से करीम कई दिनों से परेशान था।